UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत,बनाया नया कीर्तिमान

UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत,बनाया नया कीर्तिमान

UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत, अभी तक कि सबसे अधिक बिजली बेच स्थापित किया कीर्तिमान

देहरादून(अरुण शर्मा)। UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत कमा कर दिए 40 करोड़ रुपये।

मंगलवार को UJVNL की अध्यक्ष और ऊर्जा सचिव राधिका झा ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को 40.01 करोड़ का चैक सौंपा।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने UJVNL की जमकर तारीफ करते हुए उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी।

खास खबर-सीएम त्रिवेंद्र की ये घोषणा काबिले तारीफ है,कोरोना वॉरियर्स के लिए की ये घोषणा

सचिवालय में सचिव ऊर्जा एवं अध्यक्ष UJVNL लिमिटेड राधिका झा के साथ प्रबन्ध निदेशक संदीप सिंघल भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने UJVNL द्वारा प्रदेश की ऊर्जा जरूरतों को पूर्ण करने के लिये किये जा रहे प्रयासों की सराहना की।

उन्होंने कहा कि यूजेवीएनएल भविष्य में भी अपनी क्षमताओं का बेहतर उपयोग कर विद्युत उत्पादन के क्षेत्र में नये आयाम स्थापित करने हेतु प्रयत्नशील रहेगा।

मुख्यमंत्री ने निगम के कार्मिकों की मेहनत, लगन एवं बेहतर कार्य संस्कृति की भी सराहना की।

इस अवसर पर सचिव ऊर्जा राधिका झा ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि निगम द्वारा वित्तीय वर्ष 2019-20 में रु 123.01 करोड रुपए का लाभ अर्जित किया गया।

तथा उसी के अनुरुप राज्य सरकार को निगम की ओर से रु 40.01 करोड लाभांश के रुप में दिया गया है।

निगम द्वारा विगत कुछ वर्षों से सरकार को निरंतर लाभांश दिया जा रहा है तथा इस वर्ष का रु 40.01 करोड का यह अभी तक का सर्वाधिक लाभांश है।

सचिव ऊर्जा, राधिका झा ने बताया कि वित्तीय वर्ष

UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत
UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत

2019-20 में यूजेवीएन लिमिटेड द्वारा निर्धारित लक्ष्य 4822 मिलियन यूनिट के सापेक्ष 5088.88 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया।

जो कि पर्यावरणीय प्रवाह ( ई-फ्लो ) को समाहित करते हुए अभी तक का निगम का उच्चतम विद्युत उत्पादन है।

इसी क्रम में निगम द्वारा वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल रू0 923.43 करोड की ऊर्जा विक्रय की गई।

जो कि निगम की स्थापना के बाद से अभी तक की अधिकतम ऊर्जा विक्रय है।

admin

One thought on “UJVNL बना राज्य सरकार का कमाऊ पूत,बनाया नया कीर्तिमान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *