पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत

पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत

पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत

हरिद्वार(कमल खड़का)। पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत।

मंगलवार को नेपाल नरेश ज्ञानेंद्र वीरशाह पतंजलि योगपीठ पहुँचे।

जंहा आचार्य बालकृष्ण और बाबा रामदेव ने उनका दिल खोलकर स्वागत किया।

खास खबर-डोईवाला शुगर मिल में लगी आग लेकिन कैसे कुछ पता नही

नेपाल नरेश ज्ञानेंद्र ने पतंजलि योगपीठ के सभी परिकल्पो का भर्मण किया।

नेपाल के अंतिम राजा ज्ञानेंद्र ने पतजंलि भृमण की शरुवात आचार्यकुलम् से की।

नेपाल नरेश को स्वामी रामदेव व आचार्य बालकृष्ण ने पतंजलि परिसर के विविध परिकल्पों के दर्शन कराए।

और सभी संस्थानों की महत्ता का वर्णन व उसकी जानकारी नेपाल नरेश को दी।

पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागतस्वामी रामदेव ने नेपाली भाषा में बोलकर नेपाल नरेश को चौका दिया।

उन्होने पतंजलि आयुर्वेद विश्वविद्यालय की महत्ता को नेपाली भाषा में बोलकर सबको आश्चर्य चकित कर दिया।

आचार्य ने ऋषि मुनियों की धरोहर आयुर्वेद के विषय पर नेपाल नरेश को विस्तृत रूप से समझाया।

पतंजलि योगपीठ कैसे प्राचीन पाण्डुलिपियों का संरक्षणपतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत कर उनका अध्ययन कर इनमें छुपे आयुर्वेद के खजाने को कैसे खोजा जा रहा है।

उसकी जानकारी नेपाल नरेश को साझा करी क्योकि भारत की संस्कृति व नेपाल की संस्कृति काफी हद तक एक जैसे हैं,

इसलिए नेपाल में भी आयुर्वेद की अपार संभावनाए विराजमान हैं।

चारो तरफ से खनिजों, जड़ी-बूटीयों से घिर हुआ है बस वहां पर उचित दिशा में कार्य करने की आवश्यकता है।

स्वामी रामदेव ने नेपाल नरेश को प्राचीन ऋषि प्रणाली द्वारा संचालित शिक्षा संस्कृति व संस्कार के दिव्य केन्द्र वैदिक गुरूकुलम् तथा

वैदिक कन्या गुरूकुलम् के बारे में विस्तृत रूप से नेपाल नरेश को अवगत कराया साथ ही छात्र-छात्राओं द्वारा प्रातः काल में होने वाले यज्ञ की महिमा के बारे में समझाया।

कैसे यज्ञ द्वारा निकलने वाला घुआँ हमारे स्वास्थ्य के लिए व पर्यावरण के लिए महत्व रखता है उसके बारे में अपने ज्ञान से सभी को शिक्षित किया।

admin

One thought on “पतंजलि में नेपाल नरेश, बाबा रामदेव ने नेपाली बोल कर किया स्वागत

Comments are closed.