तो क्या अब उत्तराखंड में समाप्त हो जाएंगे विकास प्राधिकरण

तो क्या अब उत्तराखंड में समाप्त हो जाएंगे विकास प्राधिकरण

देहरादून(अरुण शर्मा)। उत्तराखंड में विकास प्राधिकरण समाप्त हो सकते है।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत की इस मांग पर कार्यवाही का आश्वाशन दिया है।

बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने मुख्यमंत्री से मिलकर इस बाबत एक ज्ञापन भी सौंपा।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से अनुरोध किया।

कि राज्य में जिन नगरों में विकास प्राधिकरण कार्य कर रहे हैं वहां प्राधिकरण समाप्त कर दिए जाएं।

उन्होंने कहा ये प्राधिकरण अपनी स्थापना के उद्देश्यों को पूरा नहीं कर सके हैं ।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस पर समुचित कार्यवाही करने का आश्वासन दिया ।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने बताया कि पिछले दिनों उन्होंने प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा किया।

इन दौरों में भाजपा कार्यकर्ताओं व सामान्य जन द्वारा इस बारे में बहुत शिकायत यह की गई।

उन्होंने बताया राज्य में विभिन्न नगरों में जो विकास प्राधिकरण काम कर रहे हैं वे जनता की अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर पा रहे हैं ।

उनका इन स्थानों के विकास में भी कोई ख़ास योगदान नहीं हैं ।

इसके विपरीत इन प्राधिकरणों द्वारा जनता को परेशान किया जा रहा है।

कार्यों में सरलता के स्थान पर उन्हें और अधिक विषम बनाया जा रहा है ।

कई स्थानों पर भ्रष्टाचार की शिकायतें भी सामने आई ।

भगत ने सीएम से इन प्राधिकरणों को समाप्त करने और उनके स्थान पर जनहित में जन कल्याणकारी व्यवस्था को स्थापित करने का अनुरोध किया है।

उन्हें विश्वास है कि मुख्यमंत्री इस बारे में उचित कार्यवाही करेंगे और प्रदेश की जनता को राहत प्रदान करेंगे।

admin