कोविड-19 से अनाथ हुए बच्चो को सरकारी नौकरियों में मिलेगा आरक्षण

कोविड-19 से अनाथ हुए बच्चो को सरकारी नौकरियों में मिलेगा आरक्षण

कोविड-19 से अनाथ हुए बच्चो को सरकारी नौकरियों में मिलेगा आरक्षण

देहरादून(अरुण शर्मा)। उत्तराखंड में कोविड से अनाथ हुए बच्चो को सर्जरी नौकरियों में मिलेगा आरक्षण।

उत्तराखंड सरकार ने शनिवार को यह बड़ा फैसला करते हुए वात्सल्य योजना की घोषणा की।

यह भी पढ़े- उत्तराखंड में सीएम तीरथ ने नर्सिंग की भर्ती टाल कर दिया ये बड़ा फायदा

इन बच्चों को राज्य सरकार की सरकारी नौकरियों में 05 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण दिया जायेगा।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने राज्य में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा की है।

यह योजना उन अनाथ बच्चों के लिए है, जिन्होंने कोविड -19 के संक्रमण से अपने माता-पिता को खोया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के ऐसे अनाथ बच्चों की आयु 21 वर्ष होने तक उनके भरण पोषण, शिक्षा एवं रोजगार के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी।

ऐसे बच्चों को प्रतिमाह 3000 रुपए भरण-पोषण भत्ता दिया जाएगा।

इन अनाथ बच्चों की पैतृक संपत्ति के लिए नियम बनाए जायेंगे कि, उनके वयस्क होने तक उनकी पैतृक संपत्ति को बेचने का अधिकार किसी को नहीं होगा।

यह जिम्मेदारी संबंधित जिले के जिलाधिकारी की होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन बच्चों के माता-पिता की मृत्यु कोविड-19 संक्रमण के कारण हुई है

उन बच्चों को राज्य सरकार की सरकारी नौकरियों में 05 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण दिया जायेगा।

साथ ही मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में ऐसे बच्चों को भी प्रतिमाह 3000 रुपए का भरण-पोषण भत्ता दिया जायेगा।

जिनके परिवार में कमाने वाला एकमात्र मुखिया था और जिनकी मृत्यु कोविड-19 संक्रमण से हुई हो।

admin