उत्तराखंड में पोल्ट्री फार्म से दूर है बर्ड फ्लू
 

उत्तराखंड में पोल्ट्री फार्म से दूर है बर्ड फ्लू, जमकर उड़ाओ दावते चिकन…

 

देहरादून(कमल खड़का)। जमकर खाओ चिकन तंदूरी, उत्तराखंड में बर्ड फ्लू अभी पोल्ट्री फार्म तक नही पहुंच पाया है।

यह कहना है पशुपालन राज्य मंत्री रेखा आर्य का,मंगलवार को बर्ड फ्लू को लेकर उन्होंने अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।

बैठक में बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए दो समितियों का गठन किया गया है।

खास खबर-उत्तराखंड में अब तक मारे गए 700 पक्षी, अलर्ट पर उत्तराखंड

जिसमे एक प्रदेश स्तर की होही जबकि दूसरी समिति जिले स्तर की होगी।

उत्तराखण्ड में पोल्ट्री फार्म है वहाॅ पर किसी भी प्रकार का कोई संक्रमण नही है।

लेकिन गढवाल मण्डल और कुमाॅऊ मण्डल में यदि कोई नेचुरल डेथ हुई है तो उसकी सैम्पलिंग करते हुए बरेली भेजा गया है।

बैठक में बताया गया कि बर्ड फ्लू अभी जगली पक्षीयों में ही पाया गया है।

बैठक में चिंतन…..

प्रदेश की महिला कल्याण एवं बाल विकास, पशुपालन, भेड़ एवं बकरी पालन,  राज्य मंत्री रेखा आर्या ने विधान सभा में बर्ड फ्लू विषय पर विस्तार से समीक्षा की।

सुरक्षित है पोल्ट्री फार्म !

बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में बर्ड फ्लू की स्थिति पूर्णतयः नियन्त्रण में है।

उत्तराखंड में पोल्ट्री फार्म से दूर है बर्ड फ्लू
उत्तराखंड में पोल्ट्री फार्म से दूर है बर्ड फ्लू,समिति का गठन

बर्ड फ्लू से डरने, घबराने की आवश्यकता नही है, बल्कि सर्तक और जागरूक बनने की जरूरत है।

महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड में पोल्ट्री सेक्टर में बर्ड फ्लू नही पाया गया है।

पोल्ट्री सेक्टर अभी अपने आप में पूर्णतय सुरक्षित है।

दो समितियों का गठन……

बर्ड फ्लू संक्रमण के नियंत्रण के लिए आज राज्य स्तरीय और जनपद स्तरीय समिति का गठन किया गया।

राज्य स्तरीय समिति के अध्यक्ष अपर मुख्य सचिव, कृषि उत्पादन आयुक्त उत्तराखण्ड शासन और जनपद स्तरीय समिति के अध्यक्ष जिलाधिकारी होंगे।

पोल्ट्री फार्म पर रहेगी निगरानी…..

बैठक में बताया कि पशुपालन विभाग पक्षीयों की सैम्पलिंग लगातार कर रहा है।

पोल्ट्री सेक्टर को पूरी तरह से निगरानी में रखा गया है तथा हाई अलर्ट जारी किया गया है।

किसी भी प्रकार की मुर्गियों, इत्यादि में किसी भी प्रकार की बिमारी/संक्रमण होने पर नोटिस देकर उसे तुरन्त लैब में भेजने के साथ साथ अन्य मुर्गियों से दूरी बनने के कडे निर्देश अधिकारियों को दिये गये है।

उत्तराखण्ड राज्य में जितने भी पोल्ट्री फर्म है वहाॅ पर किसी भी प्रकार का कोई संक्रमण नही है।

लेकिन गढवाल मण्डल और कुमाॅऊ मण्डल में यदि कोई नेचुरल डेथ हुई है तो उसकी सैम्पलिंग करते हुए बरेली भेजा गया है।

जिसके रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है। बर्ड फ्लू अभी जगली पक्षीयों में ही पाया गया है।

बर्ड फ्लू को लेकर जागरूकता…..

इस संदर्भ में निर्देश दिया गया कि आगामी 14 जनवरी 2021 को पोल्ट्री सेक्टर के किसानों और वैज्ञानिक, विषय विशेषज्ञ के साथ गोष्ठी का आयोजन कर लिया जाय।

जन जागरूकता के लिए एडवाईजरी, पम्पलेट और सोशल मीडिया का उपयोग किया जाय।

डयूटी पर लगे कार्मिकों को पीपी किट उपलब्ध कराया जाय। पीपी किट हेतु शासन से आकस्मिक निधि में दस लाख की अतिरिक्त माॅग कर ली जाय।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *