मुख्यमंत्री राहत कोष में अब तक सबसे बड़ी धनराशि हुई जमा

मुख्यमंत्री राहत कोष में अब तक सबसे बड़ी धनराशि हुई जमा

मुख्यमंत्री राहत कोष में अब तक सबसे बड़ी धनराशि हुई जमा

देहरादून(अरुण शर्मा)। कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने उत्तराखंड सरकार को की याबी तक कि सबसे बड़ी धनराशि की मदद।

कोविड काल मे उत्तराखंड सरकार को मदद करने वालो की सूची में हरक सिंह रावत ओर उनका विभाग सबसे आगे निकल गया है।

यह भी पढ़े- हरक सिंह रावत का बड़ा फैसला, उत्तराखंड के 30 लाख लोगों को होगा फायदा

हरक सिंह रावत ने 25 करोड़ रुपए की धनराशि का अब तक सबसे बड़ा चेक सीएम तीरथ सिंह रावत को सौंपा।

वन एवं पर्यावरण मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से कोरोना से जंग लड़ने के लिए 25 करोड़ की धनराशि का योगदान मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया है।

वन एवं पर्यावरण मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कि पिछले साल भी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 50 करोड़ की राशि कोरोना काल में मुख्यमंत्री राहत कोष में प्रदान की थी।

उन्होंने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड हर साल पर्यावरण शुल्क लेता है।

इससे हुई आमदनी से बोर्ड हमेशा सामुदायिक जिम्मेदारियों को भी बखूबी निर्वहन करता है।

बोर्ड का कार्मिकों के वेतन आदि समेत का खर्च 20 करोड़ रुपया है। इस व्यय के बाद शेष बची राशि का उपयोग जनहित में भी किया जाता है।

इसी मद से आज मुख्यमंत्री राहत कोष में बोर्ड से 25 करोड़ की राशि का सहयोग प्रदान किया है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के पास सीमित संसाधन हैं और कोरोना के खिलाफ लड़ाई लम्बी चल सकती है।

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि दूसरी लहर के बाद कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है।

ऐसे में सरकार को दूसरी लहर से निपटने के साथ ही तीसरी लहर के लिए भी तैयार रहना है।

एकजुट होकर और सामूहिक सहभागिता से ही यह लड़ाई जीती जा सकती है।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को एक साल से अधिक का समय हो गया है।

हमें खुद को संभालने के साथ ही इस लड़ाई को जीतने में यथासंभव योगदान देना होगा।

पर्याप्त धनराशि होने पर ही सरकार और अधिक संसाधन जुटा सकती है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में राज्य सरकार पूरे प्रदेश खासतैर पर पहाड़ी जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगा रही है।

admin