बाल मित्र पुलिस थाना उत्तराखंड में बच्चों को दिखायेगा नई राह

बाल मित्र पुलिस थाना उत्तराखंड में बच्चों को दिखायेगा नई राह

बाल मित्र पुलिस थाना उत्तराखंड में बच्चों को दिखायेगा नई राह

देहरादून(अरुण शर्मा)। बाल मित्र पुलिस थाना रोकेगा दिशा भटके बच्चों को सही दिशा।

उत्तराखंड पुलिस की इस नई पहल के तहत राज्य में बाल मित्र पुलिस थाना की शुरुवात की है।

खास खबर-उत्तराखंड में पुलिस ही नही उनके बच्चों की भी सोच रहे डी जी पी अशोक कुमार,लिया बड़ा फैसला

शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने देहरादून में पहले बाल मित्र पुलिस थाने की शुरुवात की।

उत्तराखंड के 13 जिलो में 13 बाल मित्र पुलिस थाने का गठन किया जाएगा।

बाल मित्र पुलिस थाना उत्तराखंड में बच्चों को दिखायेगा नई राह
बाल मित्र पुलिस थाना

थानों में बच्चों के काउंसलिग होगी जिसके लिए पुलिस विभाग को 13 लाख रूपये दिये जायेंगे।

बाल मित्र पुलिस थाना के उद्घाटन के अवसर पर प्रदेश में बाल सुरक्षा के लिए 1 करोड़ के फंड की भी घोषणा की।

थाना डालनवाला में उत्तराखण्ड के प्रथम बाल मित्र पुलिस थाने का शुभारम्भ के अवसर पर मुख्यमंत्री ने बच्चों की सुरक्षा के लिए 01 करोड़ के राहत कोष की घोषणा की।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड में बाल मित्र थाने के रूप में उत्तराखण्ड में एक नई शुरूआत की गई है।

यह पुलिस का एक महत्वपूर्ण सुधारात्मक कदम होगा। उन्होंने कहा कि बच्चों को जिस माहौल में ढ़ालना चाहें, वे उस माहौल में ढ़ल जाते हैं।

बाल मित्र पुलिस थाने से लोगों को ये लगे कि बच्चों के संरक्षक आ रहे हैं।

जो बच्चे अनजाने में अपनी दिशा से भटक जाते हैं, इन थानों के माध्यम से इनको सही दिशा देने के प्रयास किये जा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा निराश्रित बच्चों के लिए सरकारी सेवाओं में 05 प्रतिशत तथा दिव्यांगजनों के लिए भी 04 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है।

उत्तराखण्ड बाल संरक्षण अधिकार आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने कहा कि पुलिस के सहयोग से प्रदेश के सभी 13 जिलों में बाल मित्र पुलिस थाने खोले जायेंगे।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि बाल मित्र पुलिस थाना प्रदेश में नई मुहिम शुरू की गई है।

हमारा प्रयास है कि हर थाने को महिला एवं चाइल्ड फ्रेंडली बनाया जाय।

इससे थाने के नाम से बच्चों के मन में जो भय रहता है, वह दूर होगा।

उन्होंने कहा कि राज्य में ऑपरेशन ‘मुक्ति’ के तहत लगभग 2200 बच्चे चिन्हित किये गये। इनको सड़को से भीख मांगने के प्रचलन से बाहर निकाला गया।

admin

One thought on “बाल मित्र पुलिस थाना उत्तराखंड में बच्चों को दिखायेगा नई राह

Comments are closed.