उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की परीक्षाओं की ऑनलाइन कराने की हो गई शुरुवात।

ऑनलाइन परीक्षाएं के लिए प्रशिक्षण की मॉकटेस्ट का वीडियो को मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने की शुरुवात।

 

देहरादून(अरुण शर्मा)।  उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा राज्य में ऑनलाइन परीक्षाएं (कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट) के लिए प्रशिक्षण की शुरुआत हो गई है।

गुरुवार को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने राज्य में ऑनलाइन परीक्षाएं के लिए प्रशिक्षण की मॉकटेस्ट का शुभारम्भ किया।

खास खबर-उत्तराखण्ड के शिक्षण संस्थानों के लिए कैबिनेट का अहम फैसला

यह मार्कटेस्ट अभ्यर्थियों को ध्यान में रखने की मुख्य बातों को दर्शाने वाला वीडियो एवं 30 प्रश्नों का मॉकटेस्ट जो वास्तविक परीक्षा देने के समान होगा।

परीक्षा में सुचिता एवं पारदर्शिता लाने की दृष्टि से online परीक्षाएं एक उचित विकल्प हो सकता है।

उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग
उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग,सीएम ने की शुरुवात

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा ऑनलाईन जो परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं।

अभ्यर्थी को इसके लिए व्यापक स्तर पर विभिन्न माध्यमों से प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाय।

यह सुनिश्चित किया जाय कि ऑनलाइन परीक्षा होने से पूर्व अभ्यर्थियों को ऑनलाइन परीक्षा से संबंधित सभी Rule की जानकारी हो।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि ऑनलाइन परीक्षाओं से संबंधित सभी जानकारियों एवं मॉकटेस्ट के लिए अभ्यर्थियों/छात्रों को महाविद्यालयों, जिन माध्यमिक schole में वर्चुअल क्लास की व्यवस्था है।

विकासखण्ड, तहसील एवं जनपद स्तर पर भी वर्चुअल एवं अन्य माध्यमों से प्रशिक्षण की arrangement की जाय।

उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के अध्यक्ष एस. राजू ने जानकारी दी कि पिछले साढ़े तीन सालों में आयोग द्वारा आयोजित परीक्षाओं में में 5700 पदों पर चयन प्रक्रिया पूरी की गई।
पिछले चयन वर्ष में लगभग 5000 नये पदों पर चयन हेतु भर्ती विज्ञापन जारी किये गये हैं व 2500 पदों पर विज्ञापन जारी किये जाने हैं।
उन्होंने बताया कि ऑनलाइन परीक्षाएं (कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट) आयोग द्वारा प्रथम बार शुरू की जा रही हैं।
19 दिसम्बर 2020 से 03 ऑनलाइन परीक्षाएं प्रारम्भ हो रही हैं। ऑनलाइन परीक्षाओं के लिए प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार किया गया है।
इस प्रशिक्षण मॉड्यूल में ऑनलाइन परीक्षाओं के लिए आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देश, परीक्षा पूर्व, परीक्षा के दौरान तथा
Exam के बाद अभ्यर्थियों को ध्यान में रखने की मुख्य बातों को दर्शाने वाला वीडियो एवं 30 प्रश्नों का मॉकटेस्ट जो वास्तविक परीक्षा देने के समान होगा।
उन्होंने कहा कि परीक्षा में सुचिता एवं पारदर्शिता लाने की दृष्टि से ऑनलाइन परीक्षाएं एक उचित विकल्प है।
कम्प्यूटर स्क्रीन पर एक बार में एक प्रश्न प्रदर्शित होगा, प्रत्येक अभ्यर्थी का अलग प्रश्न पत्र होगा एवं सम्पूर्ण परीक्षा व सभी अभ्यर्थी CCTV कैमरे से कवर्ड होंगे।
अभ्यर्थियों को परीक्षा के उपरांत पूर्व की भांति उनका प्रश्न पत्र एवं उनका उत्तर उपलब्ध कराया जायेगा।
अभ्यर्थियों को प्रश्नों पर चुनौती का अवसर भी दिया जायेगा।
डांडी कांठी क्लब की स्मारिका ‘दृढ़ संकल्प’……
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को मुख्यमंत्री आवास में डांडी कांठी क्लब की स्मारिका ‘दृढ़ संकल्प’ का विमोचन किया।
उन्होंने कहा कि स्मारिका में उत्तराखण्ड की संस्कृति और उत्तराखण्ड आंदोलन की गाथा एवं राज्य के ऐतिहासिक, धार्मिक एवं पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थलों के बारे में लोगों को Aware करने का प्रयास किया गया है।
स्मारिका में कोविड संक्रमण के बचाव से संबंधित विभिन्न जानकारियों का भी समावेश किया गया है।
उन्होंने उत्तराखण्ड की सांस्कृतिक विरासत, धरोहरों एवं परम्पराओं के बारे में जानकारी प्रदान करने के प्रयसों की सराहना की।
डांडी कांठी क्लब का उद्देश्य ही सामाजिक सरोकारों को बढ़ावादेना है……
डांडी कांठी क्लब के अध्यक्ष विजय भूषण उनियाल ने कहा कि डांडी कांठी क्लब का उद्देश्य ही सामाजिक सरोकारों को बढ़ावा देना रहा है।
इसके साथ ही पर्वतीय क्षेत्रों से दूर रह रहे प्रवासियों को अपनी समृद्ध लोक संस्कृति से परिचित कराना भी उनका उद्देश्य रहा है।
 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *