सावधान-राजधानी देहरादून के इन इलाकों में लगा लॉक डाउन

सावधान-राजधानी देहरादून के इन इलाकों में लगा लॉक डाउन

सावधान-राजधानी देहरादून के इन इलाकों में डीएम ने लगाया लॉक डाउन

देहरादून(अरुण शर्मा)। उत्तराखंड में कोरोना फिर से अपना विकराल रूप ले रहा है।

कोरोना के नए नए मामले बड़ी संख्या में एक बार फिर सामने आ रहे है।

खास खबर-विधानसभा अध्यक्ष ने पत्नी के साथ लगवाया वैक्सीन

ऋषिकेश के एक होटल में जिस तरह से बड़ी संख्या में लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए उसके बाद से लोगों की चिंताएं बढ़ गई है।

सावधान-राजधानी देहरादून के इन इलाकों में लगा लॉक डाउनबुधवार को देहरादून जिला अधिकारी आशीष श्रीवास्तव ने इस पर कड़ा कदम उठाते हुए राजधानी के 4 इलाकों में लॉक डाउन लगा दिया है।

जबकि कुछ इलाकों को जिसमे लक्ष्मण चौक, सरस्वती सोनी मार्ग क्षेत्र बने कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है।

इसके अलावा मसूरी के तीन इलाकों में भी पूर्ण तरीके से लॉकडाउन जारी किया गया ।

देहरादून में इस साल का पहला कंटेनमेंट जोन नेहरू कॉलोनी को बनाया गया है।

गुमानीवाला और हरिपुर कलां में भी कोरोना के मरीज मिलने पर कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।

कंटेनमेंट जोन में लोगों के बाहर निकलने पर लगी पाबंदी

ऋषिकेश में फटा कोरोना बम अभी भी गंभीरता नही

ऋषिकेश बदरीनाथ हाईवे पर सिंह थाली में स्थित ताज होटल में लगातार कोरोनावायरस बढ़ते ही जा रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार ताज होटल में अभी तक 97 में से 83 कर्मचारियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

जिन्हें ऋषिलोक कोविड-19 सेंटर में रखा गया है। इसके साथ ही अन्य स्टाफ और टूरिस्ट की भी सैंपलिंग की जा रही है।

जब स्वास्थ्य विभाग नरेंद्र नगर की टीम होटल ताज पहुंची तो यहां स्टाफ और सिक्योरिटी गार्डों ने टीम को गेट पर ही रोक दिया।

काफी देर इंतजार करने के बाद भी जब स्वास्थ्य विभाग की टीम को होटल के भीतर घुसने नहीं दिया गया।

तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी नाराज होकर बैरंग वापस लौट गए।

बता दें कि लगातार ताज होटल में नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।

यहां के स्टाफ और कर्मचारी या फिर टूरिस्ट और सभी नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

आपको बता दें कि प्रशासन ने होटल ताज को ना तो कंटेनमेंट जोन घोषित किया है और ना ही अब तक होटल को सील किया है।

चौंकाने वाली बात यह है कि होटल का जितना भी स्टाफ है वह शहर में खुलेआम घूम रहा है जो कहीं ना कहीं स्थानीय लोगों की भी चिंता बढ़ा रहा है।

admin