AF MEC कोविड हॉस्पिटल की सेवाएं अस्थायी रूप से हुई स्थगित

AF MEC कोविड हॉस्पिटल की सेवाएं अस्थायी रूप से हुई स्थगित

AFMEC कोविड हॉस्पिटल की सेवाएं अस्थायी रूप से हुई स्थगित

तीसरी वेव आई तो का 24 घण्टे में पुनः नियमित होगी सेवाएं।
एफमैक टीम अलर्ट मोड़ में लगातार स्थिति पर रखेगी पैनी नज़र

आगरा। कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर से मुकाबले को एफमैक का गांव सींगना के आगरा ट्रेड सेंटर पर बना प्री एंड पोस्ट कोविड हॉस्पिटल पूरी तरह तैयार है। जिसे सोमबार को संस्था की एक बैठक के बाद स्थगित करके का फैसला लिया गया।

खास खबर- उत्तराखंड में 1 जून तक बढ़ाये गए कोविड कर्फ्यू में क्या होंगे नियम?

आगरा फुटवियर मैन्युफैक्चरर्स एंड एक्सपोर्टर्स चैम्बर (एफमैक) के पदाधिकरियों ने एक बैठकर कर अस्पताल की सेवाओं की समीक्षा की,

जिसमें आगरा-मथुरा और आसपास के कोरोना मरीज़ों की वर्तमान परिस्थितियों का आकंलन करते हुए घटते आंकड़े और अन्य अस्पतालों में उपलब्ध बैडों के अनुसार एफमैक कोविड हॉस्पिटल की उपयोगिता को ध्यान में रखते हुए इसे अस्थायी रूप से स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।

आवश्यकता पढ़ने पर महज 24 घंटे में चालू होंगी सेवाएं

बैठक की अध्यक्षता एफमैक के संस्थापक अध्यक्ष तेज ग्रुप के चेयरमैन सरदार दलजीत सिंह ने की, वहीं एफमैक अध्यक्ष पूरन डावर ने विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया।

AF MAC कोविड हॉस्पिटल की सेवाएं अस्थायी रूप से हुई स्थगितउन्होंने कहा कि आवश्यकता पढ़ने पर महज 24 घंटे में सेवाएं पुनः नियमित हो जाएँगी।

कन्वेनर कैप्टन एएस राणा ने विजय निझावन, चंद्र मोहन सचदेवा के साथ आगे हॉस्पिटल की पूरी व्यवस्थाओं को और सुदृण बनाने की दिशा में काम जारी रखने की बात कही।

लगातार स्थिति पर पैनी नजर

उपाध्यक्ष रूबी सहगल के नेतृत्व में टीम आने वाली सम्भावित तीसरी वेव पर पैनी निगाह रखेगी।

तीसरी वेव की समीक्षा, सरकार की तैयारियों, गाइड लाइंस, रिसर्च पर ध्यान रखा जाएगा और यथासम्भव सम्भावित जरूरतों के अनुसार व्यवस्था प्रारम्भ कर दी जायेगी।

आशंका व्यक्त की जा रही है कि अगली वेव बच्चों को प्रभावित कर सकती है।

सरकार डब्ल्यूएचओ की रिसर्च की क्लोज मॉनिटरिंग कर समय रहते प्रयास प्रारम्भ किए जायँगे, ताकि 24 से 48 घंटो के अंदर सेवा पुनः प्रारम्भ की जा सके।

व्यवस्थाओं से संतुष्ट नजर आये एफमैक पदाधिकारी

इस मौके पर हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं का टीम ने गहनता के साथ अवलोकन किया जिस पर सभी ने संतोष जाहिर किया।

कम समय में स्तरीय सेवाओं की सभी ने खासी प्रशंसा की, वहीं सभी सहयोगकर्ताओं जिन्होंने अपना असीमित योगदान दिया

उन्होंने पुनः विश्वास दिलाया कि यह सहयोग आगे भी जारी रहेगा। एफमैक के इस हॉस्पिटल में कुल 18 मरीजों का हुआ सफल इलाज हुआ

जिनमें से दो मरीज कृष्णकांत द्विवेदी और जितेंद्र कुमार स्वस्थ हो चुके हैं जोकि आज डिस्चार्ज होंगे।

गति देने के किया आभार

एफमैक अध्यक्ष पूरन डावर ने बताया कि इस प्रकल्प को गति देने में ज़िला प्रशासन, जिलाधिकारी आगरा, नगर निगम,

दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लि. और मुख्य चिकित्सा अधिकारी के निर्देशन में डॉक्टर्स की कर्मठ टीम का सहयोग रहा

साथ ही विशेष सहयोग डवी सरीन, कुलबीर सिंह, जे एस खेड़ा, अशोक अरोड़ा और रोमसंस ग्रुप ऑफ़ इंडस्ट्रीज के चेयरमैन किशोर खन्ना की भी अहम् भूमिका रही।

हॉस्पिटल प्रभारी के रूप में चंद्र शेखर जीपीआई ने अपना दायित्व गंभीरता पूर्वक निभाया।

वहीं खास सहयोग जीकेएस का काम देख रहे अभिषेक सिंघल का रहा।

ऐसे समय में उन्होंने काम को पूरा कराया जब उनके पिता कोरोना से जूझ रहे हैं जयपुर में उनका इलाज चल रहा है।

सटॉक में रखी दवा और खाद्य सामग्री होगी वितरित

सभी ने इस प्रकल्प में दिल खोलकर तनमन धन से सहयोग किया कई दवाएँ स्टॉक में है, दिल्ली से यूनाइटेड बैकर्ज़ द्वारा काफ़ी मात्रा में बिस्किट्स दिये गये हैं इन सभी चीजों को उनका समय रहते वितरण जरूरतमंदों को किया जाएगा।

क्या कहते है अध्यक्ष?

पूरन डावर, अध्यक्ष, एफमैक

एफमैक प्री और पोस्ट कोविड हॉस्पिटल में 350 बैडों की व्यवस्था स्टेण्ड बाई मोड पर रहेगी, जिस थर्ड वेव को लेकर आशंका व्यक्त की जा रही है

अगर उसका असर नजर आता है तो महज 48 घंटे में हम अपनी सेवाओं को नियमित कर देंगे।

नियमित रूप से इसके लिए एफमैक टीम परिस्थितियों पर नजर रखेगी।

admin