उत्तराखंड पुलिस के जवान को मिला विशेष सम्मान,विवेचना में हत्यारें को दिलायी फांसी

उत्तराखंड पुलिस के जवान को मिला विशेष सम्मान,विवेचना में हत्यारें को दिलायी फांसी

देहरादून(कमल खड़का)। उत्तराखंड पुलिस के जवान को मिल रहा है केंद्रीय गृह मंत्री पदक का विशेष सम्मान। उत्तराखंड पुलिस के इस सब इंस्पेक्टर की हत्या के मामले में की गयी विवेचना उन्हे इस पुरुस्कार के लिए चुना गया हैं। रुद्रप्रयाग में महिला की हत्या के मामले में उत्कृष्ट विवेचना करने पर उप निरीक्षक जहांगीर अली को यह सम्मान दिया जा रहा हैं। आपको बता दें कि गृह मंत्रालय ने विवेचकों को प्रोत्साहित करने के लिए इस साल से यह नया पदक बनाया गया हैं। इसके अंर्तगत हर साल उत्तराखंड से एक तो उत्तर प्रदेश से आठ उप निरीक्षक को यह पदक दिया जायेगा। मिलेगा, जबकि यूपी बड़ा राज्य होने के कारण वहां आठ विवेचक सम्मानित होंगे। से सम्मानित किया जाएगा।

खास खबर—विज्ञान प्रदर्शनी में छात्रों ने दिखाया प्रतिभा का दम

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने बताया कि रुद्रप्रयाग के कोट बांगर क्षेत्र में सात अप्रैल 2017 को सरोजनी (44) से लूटपाट के दौरान हत्या करने के बाद उसके शव को जलाने की कोशिश हुई। बाद में आरोपी महिला के अधजले शव को मकान के पीछे एक गड्ढे में दबाकर चले गए थे। राजस्व क्षेत्र होने के बावजूद इसकी विवेचना सिविल पुलिस के उपनिरीक्षक जहांगीर अली के सुपुर्द हुई।

घटना का कोई चश्मदीद गवाह और घटनास्थल से कोई महत्वपूर्ण साक्ष्य उपलब्ध न होने के बावजूद उपनिरीक्षक जहांगीर अली द्वारा सर्विलांस और वैज्ञानिक साक्ष्याें के संकलन के आधार पर मुकेश थपलियाल और सत्येश कुमार उर्फ सोनू को गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा लूट का माल खरीदने वाले सर्राफ अवधेश शाह और राजेश रस्तोगी के खिलाफ भी कार्रवाई अमल में लाई। निर्धारित अवधि में इनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रुद्रप्रयाग की कोर्ट ने चार दिसंबर 2018 को इस घटना को विरल से विरलतम श्रेणी का अपराध मानते हुए मुकेश थपलियाल और सत्येश कुमार उर्फ सोनू को फांसी की सजा सुनाई। इनके अलावा लूट का सामान खरीदने वाले अवधेश शाह और राजेश रस्तोगी को तीन वर्ष के कठोर कारावास से दंडित किया गया।

admin