पहाड़ पर स्वरोजगार के लिए सीएम त्रिवेंद्र ​ने दिखायी राह,ऐसे तो लौट आयेगी पहाड़ की रौनक

पहाड़ पर स्वरोजगार के लिए सीएम त्रिवेंद्र ​ने दिखायी राह,ऐसे तो लौट आयेगी पहाड़ की रौनक

देहरादून(पंकज पाराशर)।पहाड़ पर स्वरोजगार के लिए सरकार की पहल से अलग सीएम त्रिवेंद्र ने ऐसी राह दिखायी जो हर किसी के लिए मिसाल बन गयी। दरअसल सीएम ने दिल्ली से पहाड़ पर स्वरोजगार की पहल करने वाले दम्पिती को अपने विवेकाधीन कोष से दस लाख की मदद दी।

आर्किटेक्ट नम्रता व गौरव ने यमकेश्वर जैसे दूरदराज ब्लॉक के गांव में हेम्प से उत्पाद बनाने का स्टार्ट अप शुरू कर पहाड़ पर स्वरोजगार की अलख जगाने का प्रयास कर रहे हैं। हेम्प के रेशे बनाने की मशीन खरीदने के लिए दी राशि।

खास खबर—दून में मैट्रो की फजीहत के बाद उत्तराखंड सरकार अब बना रही हवा में रास्ता

यमकेश्वर ब्लॉक के कंडवाल गांव में हेम्प से विभिन्न उत्पाद तैयार करने वाले गौरव व नम्रता को मशीन खरीदने के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सीएम विवेकाधीन कोष से 10 लाख रूपए की राशि का चेक प्रदान किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पेशे से आर्किटेक्ट नम्रता व गौरव ने यमकेश्वर जैसे दूरदराज ब्लॉक के गांव में हेम्प से उत्पाद बनाने का स्टार्ट अप शुरू कर अन्य युवाओं को स्वरोजगार की राह दिखाई है।

गौरव और नम्रता ने बताया कि वे दोनों दिल्ली में रहते थे। काफी रिसर्च के बाद उन्होंने पहाड़ में पाए जाने वाले हेम्प को रोजगार का साधन बनाने का निर्णय किया। वर्तमान में वे इसके बीज के तेल से साबुन बना रहे हैं। इससे भवन निर्माण सामग्री भी बनाई जा सकती है।

admin