दिल्ली पहुँचे सीएम तीरथ सिंह रावत ने कह दी ये बड़ी बात

दिल्ली पहुँचे सीएम तीरथ सिंह रावत ने कह दी ये बड़ी बात

दिल्ली पहुँचे सीएम तीरथ सिंह रावत ने कही बड़ी बात, एक हफ्ते में लिए गए फैसले थे जनता के हित के।

Ripped jins को लेकर पहले ही ट्रोल हो रहे तीरथ रावत का यह बयान भी चर्चा का विषय बन सकता है।

दरअसल सीएम तीरथ ने एक हफ्ते में जो फैसले लिए उसमे अधिकतर फैसले पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के फैसलों को बदलने वाले रहे है।

खास खबर-25 अप्रैल को कुंभ ganga snan को हरिद्वार पहुँच रहे उत्तराखंड के देवी-देवता

ऐसे में चर्चा होना स्वभाविक है कि क्या त्रिवेंद्र सिंह रावत के फैसले जनता के हित के विपरीत थे?

बहरहाल सीएम का यह बयान कितना सुर्खियां बटोर पायेगा समय ही बताएगा लेकिन दिल्ली पहुंचे सीएम तीरथ का लोगों ने जबरदस्त स्वागत किया।

दिल्ली पहुँचे उत्तराखंड सीएम तीरथ सिंह रावत का जोरदार स्वागत।

एक हफ्ते में लिए गए फैसले जनता के हित के थे- सीएम

दिल्ली(अरुण शर्मा)। दिल्ली पहुंचे उत्तराखंड सीएम तीरथ सिंह रावत,लोगों ने किया जोरदार स्वागत।

त्तराखण्ड के मुख्यमंत्री का पदभार संभालने के बाद पहली बार दिल्ली पहुंचे तीरथ सिंह रावत का उत्तराखण्ड सदन में भव्य स्वागत हुआ।

बड़ी संख्या में सदन में मौजूद उत्तराखण्ड मूल के लोगों ने मुख्यमंत्री का फूल-मालाओं से स्वागत किया।

दिल्ली पहुँचे उत्तराखंड सीएम तीरथ सिंह रावतइस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार जनभवनाओं के अनुरूप कार्य करेगी।

जनता जो चाहेगी वही किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दिशा-निर्देशन में उत्तराखण्ड का चहुमुंखी विकास किया जाएगा।

उत्तराखण्ड के प्रति प्रधानमंत्री के अपार लगाव की बदौलत ही यहां चारधाम ऑल वैदर रोड,

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल प्रोजेक्ट्, केदारनाथ-बदरीनाथ धाम पुनर्निर्माण समेत तमाम परियोजनाएं संचालित हो रही हैं।
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि उन्हें मुख्यमंत्री बने अभी एक सप्ताह का ही समय हुआ है।

इस दौरान उन्होंने जनभावनाओं के अनुरूप फैसले लिये।

सबसे पहले कोरोनाकाल में जिन 4500 लोगों पर महामारी एक्ट के तहत मकदमे दर्ज किए गए थे,

उन मुकदमों को सरकार ने वापस लिया।

इनमें से अधिकांश मुकदमे उन लोगों पर दर्ज थे जो कारोनाकाल में जरूरतमंदों की मद्द में लगे हुए थे।

उन्होंने कहा कि विकास प्राधिकरणों की मनमानी से पहाड़ी क्षेत्र के लोग त्रस्त थे।

हमारी सरकार ने देर लगाए बगैर पहाड़ी जिलों में प्राधिकारणों का अस्तित्व समाप्त कर दिया है।

कुंभ स्नान के लिए देश-विदेश के सभी श्रद्धालुओं को कुंभ स्नान के लिए हरिद्वार आंमंत्रित किया गया है।

कुम्भ मेले के लिए केन्द्र सरकार की गाइडलाइन का ध्यान रखा जाएगा परंतु अनावश्यक रोक टोक नहीं होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के प्रभाव से घर लौटे प्रवासी उत्तराखण्डियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

उन्हें स्वरोजगार शुरू करने के लिए ब्याज रहित ऋण मुहैया करवाया जा रहा है।

उनकी हर समस्या का समाधान सरकार करेगी। उन्होंने उत्तराखण्ड मूल के लोगों से आग्रह किया कि वे भी उत्तराखण्ड राज्य के विकास और जनकल्याण में अपना योगदान दें।

admin