मनीष सिसोदिया का मदन कौशिक को पत्र
 

मनीष सिसोदिया ने मदन कौशिक का चैलेंज किया स्वीकार,लिखा पत्र।

देहरादून(अरुण शर्मा)। आप के मनीष सिसोदिया ने उत्तराखंड के शासकीय प्रवक्ता का चैलेंज स्वीकार कर किया है।

चैलेंज स्वीकार करते हुए मनीष सिसोदिया ने उन्हें पत्र लिखकर देहरादून ओर दिल्ली में खुली बहस का समय दिया है।

मनीष सिसोदिया का मदन को पत्र
मनीष सिसोदिया का मदन कौशिक को पत्र

देहरादून में जंहा मनीष सिसोदिया ने 4 जनवरी देहरादून में तो 6 जनवरी को दिल्ली में खुली चर्चा करने का निमंत्रण दिया है।

आपको बता दे कि शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने मनीष सिसोदिया को विकास के मॉडल पर खुली बहस करने की चनौती दी थी।

जिसके बाद दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उनका यह चैलेंज स्वीकार कर लिया है।

 

आज आम आदमी पार्टी के गढ़वाल मंडलीय कार्यालय पौड़ी में प्रदेश प्रवक्ता आशुतोष नेगी ने  बताया की दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया 3 जनवरी को देहरादून पहुंच रहे हैं।

उन्होंने मदन कौशिक को 4 जनवरी को देहरादून के आइआरडीटी ऑडिटोरियम में उनको डिबेट के लिए आमंत्रित किया है।

 

4 जनवरी को सुबह 11 बजे देहरादून के आईआरडीटी आँडिटोरिया में ‘केजरीवाल माॅडल बनाम त्रिवेंद्र रावत माॅडल’ पर खुली बहस के लिए निमंत्रण दिया है।

डिप्टी सीएम ने कहा कि उत्तराखंड के लोगों के लिए इससे अच्छा कुछ और नहीं हो सकता कि वे अपने वर्तमान और भावी नेताओं को स्कूल, अस्पताल, बिजली, पानी आदि मुद्दों पर खुली बहस करता देंखे।

उपमुख्यमंत्री ने नववर्ष की शुभकामनाएं देते हुए पत्र में कहा है कि मुझे यह जानकारी बेहद खुशी हुई कि आप त्रिवेंद्र रावत सरकार द्वारा उत्तराखंड के लोगों के हित में किए गए शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी, रोजगार, महिला सुरक्षा आदि कार्य पर खुली चर्चा के लिए सहमत हैं।

 

मनीष सिसोदिया का मदन कौशिक को पत्र
मनीष सिसोदिया का मदन कौशिक को पत्र पर चर्चा करते आशुतोष नेगी

आपको बता दे कि 20 दिसंबर 2020 को मीडिया में यह कहते हुए खुला निमंत्रण दिया था कि मैं जहां चाहूं, आप मुझे अपनी सरकार के 100 काम गिनवा सकते हैं।

उन्होंने मनीष सिसोदिया को चैलेंज देते हुए कहा कि मैं चाहूं तो देहरादून आ जाऊं या चाहें, तो आपको दिल्ली बुला लूं।

जिसके पलट में मनीष सिसोदिया ने पत्र लिझकर कहा कि मैंने स्वयं मीडिया में आपका यह वक्तव्य देखा और मुझे बहुत खुशी हुई कि आप शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी आदि के कार्य पर खुली बहस के लिए तैयार हैं।

और ‘केजरीवाल माॅडल बनाम त्रिवेंद्र रावत माॅडल‘ पर देहरादून या दिल्ली में कहीं पर भी चर्चा के लिए तैयार हैं।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *