हरीश रावत ने माना इंदिरा-प्रीतम को सीएम का चेहरा
 

हरीश रावत ने माना इंदिरा-प्रीतम को सीएम का चेहरा,सोशल मीडिया पर ट्वीट।

देहरादून(अरुण शर्मा)। हरीश रावत ने माना इंदिरा-प्रीतम को सीएम का चेहरा,

उत्तराखंड में 2022 के महासंग्राम से पहले कांग्रेस के भीतर सीएम चहरे को लेकर घमासान मचा हुआ है।

खास खबर-सीएम चेहरे की घोषणा की बात की हरीश रावत ने नाराज हो गई ‘बुआ जी’

हरीश रावत के सोशल मीडिया पर सेनापति का चेहरा घोषित कियर जाने की मांग के बाद उनपर इंदिरा ने पलटवार किया था।

इंदिरा ने  तो हरीश रावत को पार्टी की परंपरा तक याद दिलाने की कोशिश की थी।

लेकिन मंगलवार को हरीश रावत का एक ओर ट्वीट ने हड़कम्प मचा दिया।

उन्होंने सोशल मीडिया।पर ट्वीट कर प्रीतम सिंह और इंदिरा ह्रदयेश को सीएम का चेहरा मानते हुए उनके नाम की घोषणा करने की अपील की।

हरदा ने तो प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से उन्हें सामूहिक नेतृत्व से हटाने की मांग की।

हरीश रावत ने माना इंदिरा-प्रीतम को सीएम का चेहरा

हरीश रावत ने अपने इस ट्वीट में प्रदेश में राजनीति के नाम पर धनबल कमाने का भी विरोध किया।

हरदा ने खुद को सीएम की दौड़ से अलग करते हुए 2017 का भी जिक्र करते हुए कटाक्ष किया है।

पढ़े पूर्व सीएम हरीश रावत का सोशल मीडिया पर ट्वीट…..

श्री #प्रीतम_सिंह सेनापति हैं, यह बहुत स्तुत्य कथन है, उन्हें पार्टी की ओर से #मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किये जाने का अनुरोध है, मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में #इंदिरा_हृदयेश जी का भी स्वागत करूँगा, मैंने अपने नाम को लेकर जो असमंजस है उसको समाप्त किया है। #देवेंद्र जी ने जो आदर दिया है, मैं उसके लिये उनको बहुत धन्यवाद देना चाहता हूं, लेकिन मुझे सामूहिक नेतृत्व की पंक्ति से हटा देने की कृपा करें, कुछ समय व्यक्ति को उन्मुक्त भी रहना चाहिये। मैं उसी दिशा में बढ़ते हुये राजनीति के बल पर धन कमाकर अब प्रदेश की राजनीति पर कब्जा जमाने की प्रवृत्ति के विरूद्ध जन जागृति जगाने का काम करना चाहता हूँ। मेरे लिये निरंतर यह देखना भी कष्टकारक है कि कांग्रेस संगठन एक होटल की चार दिवारी में कैद होकर न रह जाय। मुझे #कार्यकर्ताओं और स्वराज आश्रम की गरिमा को भी पुनः स्थापित करना है, फिर कभी-कभी कुछ नाम बोझ हो जाते हैं, 2017 में कुछ ऐसी स्याही से मेरा नाम लिखा गया जो #कांग्रेस के ऊपर बोझ बन गया। मैं, कांग्रेस को पापार्जित धन की स्याही से लिखे गये नाम के बोझ से भी मुक्त कर देना चाहता हूँ, संयुक्त नेतृत्व में भी ऐसे नाम का बोझ पार्टी पर बना रहेगा।

Indian National Congress Indian National Congress Uttarakhand Rahul Gandhi Devender Yadav Pritam Singh Dr.Indira Hridayesh

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *