हरीश रावत राजनीतिक सन्यास को लेकर हलचल

हरीश रावत की सोशल मीडिया पोस्ट से उत्तराखंड में राजनीतिक हलचल तेज

 

देहरादून(अरुण शर्मा)। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत राजनीतिक सन्यास की तिथि घोषित हो गई है।

हरदा 2024 में राजनीति से सन्यास लेने जा रहे है।

यह भी पढ़े-नयार वैली के साहसिक खेल उत्तराखंड टुरिष्म के लिए एक उम्मीद

अपने सोशल मीडिया हैंडल पर किये गए ताजा पोस्ट उन्होंने जंहा अपने राजनीतिक सन्यास की बात कही।

हरीश रावततो वही उन्होंने उत्तराखंड के राजनेताओं को भी आड़े हाथ लिया।

पिछले काफी दिनों से उनकी अपनी पार्टी के भीतर और विपक्ष की ओर से लगातार ये सवाल उठाये जा रहे थे।

हरीश रावत ने अपनी इस पोस्ट में न केवल अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता को जाहिर किया ।

उन्होंने अपने राजनीतिक महाभारत के युद्ध मे लगे घाव का भी जिक्र किया।

हरीश रावत ने अपनी ही पार्टी के उन नेताओं पर भी जमकर निशाना साधा जो लगातार उनके नेतृत्व में पार्टी के हार को गिना रहे थे।

हरदा ने उन नेताओं को लेकर कहा कि इन नेताओं ने जितनी बार अपने पूर्वज का नाम नही लिया होगा उससे अधिक बार उन्होंने मेरी हर गिनाने का काम किया है।

हरीश रावत ने अपने सन्यास को लेकर कहा कि वे 2024 में राजनीति से सन्यास लेंगे जब राहुल गांधी प्रधानमंत्री बन जाएंगे।

इसके बाद यह तय माना जा रहा है कि 2022 के उत्तराखंड चुनाव में हरीश रावत न केवल पूरी तरह सक्रिय होंगे, अपितु कांग्रेस की सरकार बनवाने में एडी चोंटी का जोर लगा देंगे।

पढ़े हरीश रावत के राजनीतिक सन्यास पर उनकी पोस्ट

#महाभारत के युद्ध में अर्जुन को जब घाव लगते थे, वो बहुत रोमांचित होते थे। #राजनैतिक जीवन के प्रारंभ से ही मुझे घाव दर घाव लगे, कई-कई हारें झेली, मगर मैंने राजनीति में न निष्ठा बदली और न रण छोड़ा। मैं आभारी हूं, उन #बच्चों का जिनके माध्यम से मेरी #चुनावी हारें गिनाई जा रही हैं, इनमें से कुछ योद्धा जो #RSS की क्लास में सीखे हुए हुनर, मुझ पर आजमा रहे हैं। वो उस समय जन्म ले रहे थे, जब मैं पहली हार झेलने के बाद फिर युद्ध के लिए कमर कस रहा था, कुछ पुराने चकल्लस बाज़ हैं जो कभी चुनाव ही नहीं लड़े हैं और जिनके वार्ड से कभी #कांग्रेस जीती ही नहीं, वो मुझे यह स्मरण करा रहे हैं कि मेरे नेतृत्व में कांग्रेस 70 की #विधानसभा में 11 पर क्यों आ गई! ऐसे लोगों ने जितनी बार मेरी चुनावी हारों की संख्या गिनाई है, उतनी बार अपने पूर्वजों का नाम नहीं लिया है, मगर यहां भी वो चूक कर गये हैं। अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, चंपावत व बागेश्वर में तो मैं सन् 1971-72 से चुनावी हार-जीत का जिम्मेदार बन गया था, जिला पंचायत सदस्यों से लेकर जिलापंचायत, नगर पंचायत अध्यक्ष, वार्ड मेंबरों, विधायकों के चुनाव में न जाने कितनों को लड़ाया और न जाने उनमें से कितने हार गये, ब्यौरा बहुत लंबा है मगर उत्तराखंड बनने के बाद सन् 2002 से लेकर सन् 2019 तक हर चुनावी युद्ध में मैं नायक की भूमिका में रहा हूं, यहां तक कि 2012 में भी मुझे पार्टी ने हैलीकॉप्टर देकर 62 सीटों पर चुनाव अभियान में प्रमुख दायित्व सौंपा। चुनावी हारों के अंकगणित शास्त्रियों को अपने गुरुजनों से पूछना चाहिए कि उन्होंने अपने जीवन काल में कितनों को लड़ाया और उनमें से कितने जीते? यदि #अंकगणितीय खेल में उलझे रहने के बजाय आगे की ओर देखो तो समाधान निकलता दिखता है। श्री #त्रिवेंद्र_सरकार के एक काबिल #मंत्री जी ने जिन्हें मैं उनके राजनैतिक आका के दुराग्रह के कारण अपना साथी नहीं बना सका, उनकी सीख मुझे अच्छी लग रही है। मैं #संन्यास लूंगा, अवश्य लूंगा मगर 2024 में, देश में राहुल गांधी जी के नेतृत्व में संवैधानिक लोकतंत्रवादी शक्तियों की विजय और श्री #राहुल_गांधी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद ही यह संभव हो पायेगा, तब तक मेरे शुभचिंतक मेरे संन्यास के लिये प्रतीक्षारत रहें।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *