उत्तराखंड बीजेपी के कैबिनेट मंत्री और विधायक हुए आमने-सामने,लफड़ा जमीन का है साहब

उत्तराखंड बीजेपी के कैबिनेट मंत्री और विधायक हुए आमने-सामने,लफड़ा जमीन का है साहब

हरिद्वार(अरुण शर्मा)। उत्तराखंड बीजेपी के भीतर नेताओं की आपसी गुटबाजी है कि रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। हाल ही में किच्छा में एक बीजेपी विधायक और बीजेपी नेता का मंच पर खुलेआम भिड़ जाने की खबर लोग भूले भी नहीं थे कि हरिद्वार में मंत्री और विधायक की आपसी गुटबाजी खुलकर सड़क पर दिखायी दी। मामला गुरुकुल की जमीन को लेकर हैं। इस भूमि पर कब्जे को लेकर उत्तराखंड बीजेपी विधायक ने कैबिनेट मंत्री पर सरंक्षण देने का आरोप लगा दिया। कब्जे के विरोध में विधायक जी अपने समर्थकों के साथ भूख हड़ताल पर बैठ गए।

खास खबर—हर की पैड़ी पर अतिक्रमण एक समस्या,क्या इस अभियान से पुलिस होगी सफल

सूबे के कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक पर उन्हीं की पार्टी के विधायक स्वामी यतीश्वरानंद ने आश्रमों की संपत्तियां हड़पने का आरोप लगाया है। दरअसल हरिद्वार के गुरुकुल महाविद्यालय में दो पक्षों में वर्चस्व की जंग जारी है। जिसमें एक पक्ष ने कार्यालय का ताला तोड़कर कार्यालय पर कब्जा जमा लिया वहीं दूसरे पक्ष ने विधायक स्वामी यतीश्वरानंद के नेतृत्व में महाविधालय पहुंचकर हंगामा किया।

तनाव की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने पहले ही मौके पर पुलिस बल तैनात कर दिया था। इस दौरान विधायक समर्थकों की पुलिस के साथ धक्का मुक्की हुई। कब्जे के विरोध में स्वामी यतीश्वरानंद समर्थकों के साथ भूख हड़ताल पर बैठ गए। हरिद्वार में आर्य समाज की जिस संस्था में यह विवाद चल रहा है उसके पदाधिकारियों में कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक भी उप प्रधान के पद पर हैं।

विधायक स्वामी यतिस्वरानंद का कहना है कि मदन कौशिक का संरक्षण मिलने पर ही दूसरे पक्ष के लोगों ने उनकी गैरहाजिरी मेंं ताले तोड़कर संस्था के कार्यालय पर कब्जा कर लिया है। वहीं दूसरे पक्ष के लोगों का कहना है कि स्वामी यतिस्वरानंद को 2018 में संस्था विरोधी गतिविधियों के कारण निष्कासित कर दिया गया था। विधायक की संस्था की बेशकीमती भूमि पर नजर है। इसलिए वे अनाधिकृत लोगों के साथ आकर हंगामा कर रहे हैं।

admin