चारधामों सहित गढ़वाल—कुमाउ के मठ—मन्दिरों से होते हुए छड़ी यात्रा Haridwar वापस

चारधामों सहित गढ़वाल—कुमाउ के मठ—मन्दिरों से होते हुए छड़ी यात्रा Haridwar वापस

हरिद्वार। धर्मनगरी हरिद्वार (Haridwar) से प्रारम्भ होकर चारों धाम और उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थानों से होती हुई छडी यात्रा आज शाम हरिद्वार (Haridwar) वापस आ गयी।यह पवित्र छड़ी यात्रा
यमुनोत्री,गंगोत्री,केदारनाथ,बद्रीनाथ,लाखामण्डल,कोटेश्वर,महादेव,त्रिजूगीनारायण,उखीमठ,तृंगनाथ,अनुसूईया मन्दिर,पाण्डूकेश्वर,विष्णुप्रयाग,व्यासगुफा,नृसिंह मन्दिर जोशीमठ,बैजनाथ
मन्दिर,एड़ादेव,खडकेश्वर बागनाथ मन्दिर बागेश्वर,गणानाथ आदि स्थानों से यात्रा के बाद माया देवी मंदिर पहुँची छड़ी यात्रा का स्वागत हरिद्वार के जिलाधिकारी और एसएसपी ने किया।
आपको बताते चले कि विगत 12 अगस्त को छड़ी यात्रा गंगा पूजन के बाद हरिद्वार के मायादेवी मन्दिर के प्रागण से मुख्यमंत्री की उपस्थिती में रवाना हुई थी। जो उत्तराखण्ड के चारों धामों गंगोत्री, यमुनोत्री,केदारनाथ और बद्रीनाथ के साथ साथ गढ़वाल एवम् कुमाउ के विभिन्न मठ—मन्दिरों से होते हुए आज हरिद्वार पहुंची। जहां छड़ी और उसके साथ आए साधु संतो का स्वागत हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपेंद्र चौधरी एस एस पी अबुदई सेंथिल कृष्ण राज एस ,एस डीम कुशम चौहान सी ओ सिटी अभय सिंग सहित अन्य प्रशानिक अधिकारियों ने किया। इस अवसर यात्रा में जूना अखाड़े के अन्र्तराष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेम गिरी,उपाध्यक्ष श्रीमहंत विद्याानंद सरस्वती,छड़ी महंत शिवदत्त गिरी,श्रीमहंत केदारपुरी,श्रीमहंत पुष्करराज गिरी,श्रीमहंत धीरज गिरी,श्रीमहंत शेैलेन्द्र गिरी मौजूद रहें।

admin