महाशिव रात्रि पर भोले की बारात में शामिल हुए भूत-पिशाच और यमराज

महाशिव रात्रि पर भोले की बारात में शामिल हुए भूत-पिशाच और यमराज

हरिद्वार (कमल खड़का)।महाशिव रात्रि शुक्रवार को सुभाष घाट स्थित प्रकाशेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव की बारात निकाली गई जिसमें बाराती उनके गण भूत प्रेत सभी मौजूद रहे। भोले के गीत पर थिरकते भूत पिशाच सभी के आर्कषण का केंद्र बने हुए थे। शिव की इस बारात में कई तरह के बैंड बाजे के साथ भूत पिशाच देव सब घोड़े पर सवार होकर चल रहे थे। बारात में यमराज ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई भैसे मैं बैठे थे

खास खबर—इस दिन खुलने जा रहे है बाबा केदारनाथ के कपाट

भगवान शिव की बारात सुभाष घाट, बड़ा बाजार, हरकी पैड़ी, अपर रोड, पोस्ट ऑफिस, शिवमूर्ति ,तक निकाली गई। भगवान शिव की बारात के बारे में माना जाता है कि इसमें भूत-प्रेत नाचते हुए पार्वतीजी के घर तक पहुंचे थे और बारातियों ने सजने धजने की बजाय खुद पर भस्म को रमाया हुआ था।

आइए जानते हैं शिव विवाह और उनकी बारात से जुड़ा किस्सा। माना जाता है कि पवित्र सप्तऋषियों द्वारा विवाह की तिथि निश्चित कर दिये जाने के बाद भगवान शंकर जी ने अपने गणों को बारात की तैयारी करने का आदेश दिया। महाशिव रात्रि

उनके इस आदेश से अत्यन्त प्रसन्न होकर गणेश्वर शंखकर्ण, कंकराक्ष, विकृत, विशाख, विकृतानन, दुन्दुभ, कपाल, कुण्डक, काकपादोदर, मधुपिंग, प्रसथ, वीरभद्र आदि गणों के अध्यक्ष अपने अपने गणों को साथ लेकर चल पड़े। नन्दी, क्षेत्रपाल, भैरव आदि गणराज भी कोटि कोटि गणों के साथ निकल पड़े। ये सभी तीन नेत्रों वाले थे। सबके मस्तक पर चंद्रमा और गले में नील चिन्ह थे। सभी ने रुद्राक्ष के आभूषण पहन रखे थे। सभी के शरीर पर उत्तम भस्म पुती हुई थी। इन गणों के साथ शंकर जी के भूतों, प्रेतों, पिशाचों की सेना भी आकर सम्मिलित हो गयी। इनमें डाकिनी, शाकिनी, यातुधान, बेताल, बह्मराक्षस आदि भी शामिल थे।

admin