अखाड़ा परिषद दो फाड़, कुम्भ में भेदभाव पर बैरागी अखाड़ो का बहिष्कार

अखाड़ा परिषद दो फाड़, कुम्भ में भेदभाव पर बैरागी अखाड़ो का बहिष्कार

अखाड़ा परिषद दो फाड़, बैरागी अखाड़ो ने किया बहिष्कार

हरिद्वार(कमल।खड़का)। अखाड़ा परिषद में हो गए दो फाड़, 13 अखाड़ो की इस संस्था के तीन अखाड़ो ने अपनी नाराजगी खुलकर जाहिर कर दी है।

दरअसल नाराजगी हरिद्वार कुम्भ में उचित व्यवस्था अखाड़ो को न मिल पाने को लेकर है।

सन्यासी और बैरागी संतों के अखाड़ो की संस्था में बैरागी अखाड़े नाराज है।

खास खबर-नितिन गडकरी से मिलने पहुंचे सतपाल महाराज,मांग उनकी अपनी विधानसभा की थी

कुंभ में सन्यासी अखाड़ो की ही तरह बैरागी अखाड़ो की व्यबस्था की मांग है अन्यथा संतो आंदोलन रूपी भजन करेंगे।

अखाड़ा परिषद दो फाड़
अखाड़ा परिषद दो फाड़, बैरागी संतो का बहिष्कार

हरिद्वार महाकुंभ मेले के लिए सरकार द्वारा सुविधाएं न मिलने से नाराज बैरागी संतो की तीन अणियो से जुड़े संतो ने अखाड़ा परिषद के बहिष्कार की घोषणा कर दी है।

बैरागी कैम्प में प्रेस वार्ता कर बैरागी संतो की तीन अणियो निर्वाणी, निर्मोही और दिगंबर अखाड़े से जुड़े संतो ने ये घोषणा की है।
इस दौरानदिगंबर अखाड़े के प्रतिनिधि व अखाड़ा परिषद के पूर्व प्रवक्ता बाबा हठयोगी ने आरोप लगाया कि कुम्भ मेले के लिए सरकार अन्य अखाड़ो के लिए व्यवस्था कर रही है।
लेकिन बैरागी संतो के लिए अभी तक कोई सुविधा मिली है।
बैरागियों से अलग अन्य अखाड़ो के पीछे पूरी सरकार लगी है।
मंत्री और साँसद हरिद्वार से है लेकिन वो बैरागी अखाड़ो की सुध नही ले रहे है।
इसलिए आज वो घोषणा करते है कि उनका अखाड़ा परिषद से कोई संबंध नही है।
इसलिए तीनो आणि वर्तमान अखाडा परिषद से अलग हों गई है।
इसके साथ ही उन्होंने अखाड़ा परिषद के दोबारा चुनाव कराने की माँग की।
निर्वाणी अखाड़े के प्रतिनिधि महंत दुर्गादास ने कहा कि कुम्भ मेले में बैरागी कैम्प से ही उनके अखाड़ो की धर्मध्वजा और चरणपादुका इत्यादि गतिविधियां संचालित होंगी।
पूर्व की तरह ही वो शाही स्नान इत्यादि गतिविधियों में भी शामिल होंगे।
वहीं उन्होंने चेतावनी यदि जल्द ही बैरागी संतों के लिए सरकार व्यवस्था नहीं करती तो वह भजन कीर्तन करेंगे और आंदोलन पर भी बैठेंगे।

admin

One thought on “अखाड़ा परिषद दो फाड़, कुम्भ में भेदभाव पर बैरागी अखाड़ो का बहिष्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *