गजब दिवानगी-दूर हुई तो एक गोली खुद को दो तुझे मारुंगा फिर जो हुआ सोच से आगे का था

गजब दिवानगी-दूर हुई तो एक गोली खुद को दो तुझे मारुंगा फिर जो हुआ सोच से आगे का था

गजब दिवानगी-दूर हुई तो एक गोली खुद को दो तुझे मारुंगा फिर जो हुआ सोच से आगे का था

रुड़की अरुण शर्मा। गजब दिवानगी—ऐसी दिवानगी कहां देखने को मिलती हैं।

हरिद्वार के रुड़की इलाके में दो प्रेेम करने वालों ने ऐसी कहानी लिख दी जिस पर यकीन करना मुश्किल हैं।

मामला रुड़की के झबरेड़ा थाना क्षेत्र का है जंहा पर खेत में मिले दो शव मिलने के मामले में पुलिस ने खुलासा किया हैं।

प्रेमी अक्सर अपनी प्रमिका को कहता था कि अगर दूर हुई तो एक गोली खुद को और दो गोली तुझे मारुंगा। और आखिर में हुआ भी यहीं ।

गजब दिवानगी-दूर हुई तो एक गोली खुद को दो तुझे मारुंगा फिर जो हुआ सोच से आगे का थादरअसल शव मिलने के बाद पुलिस ने जब इस मामले की गहनता से छानबीन की तो पाया कि दोनो युवक और युवती आपस में प्रेम करते थे।

प्रेम की इंतहा ऐसी थी कि आपस में वाटसएप पर चैंटिग करते हुए युवक अपनी प्रेमिका से दूर होने की बात पर गोली मार देने की बात किया करता था।

एसपी देहात प्रमेंद्र डोभाल के अनुसार पुलिस ने जब इस मामले में छानबीन की तो पाया कि दोनो एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे। पुलिस को दोनो की वाटसएप चैंटिग से ऐसे सबूत मिले हैं।

दरअसल युवक और युवती दोनो ही अलग अलग समुदाय के थे और शायद यही वजह थी कि वो एक न हो पाये।

 

प्रेमिका के परिजनो ने उसकी शादी कहीं ओर कर दी थी। जिसके बाद प्रेमि और भी पेरशान रहने लगा था।

 

पुलिस को वाटसएप चैंटिग से मिले सुबुत के अनुसार वे दोनो एक दुसरे से दूर रहने के बाद भी अपने दिल की बात किया करते थे।

दोनो की बातचीत से यह बात भी सामने आयी कि वे आपस में जब बात किया करते तो प्रेमी दूर होने की बात पर खुद को और प्रेमिका को गोली मार देने की बात करता था।

 

पुलिस के अनुसार इस बातचीत में यह बात भी सामने आयी कि प्रेमी ने एक देशी कटटा और तीन कारतूस भी खरीद लिए थे।

दोनो के बीच हुई बातचीत में यह बात भी सामने आयी कि प्रेमी प्रेमिका से दूर होने की बात पर खुद को एक गोली मारने और उसे दो गोली मारने की बात किया करता था।

 

हुआ भी कुछ इसी तरह से प्रेमी ने खुद को एक गोली मारी और प्रेमिका को दो गोली मारी और खुदखुशी कर ली।

admin

One thought on “गजब दिवानगी-दूर हुई तो एक गोली खुद को दो तुझे मारुंगा फिर जो हुआ सोच से आगे का था

Comments are closed.