फेसबुक पर विदेशी महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट आये तो सावधान,ठगे जाओगे

फेसबुक पर विदेशी महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट आये तो सावधान,ठगे जाओगे

देहरादून(अरुण शर्मा)। फेसबुक पर विदेशी महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट आये तो हो जाय सावधान,आप अपने पसीने की गाढ़ी कमाई गंवा सकते है।

उत्तराखंड एसटीएफ और साईबर क्राइम पुलिस ने इसे ही एक गिरोह का पर्दाफाश किया है जो फेसबुक पर विदेशी महिला बन कर ठगी करते थे।

फेसबुक पर विदेशी महिला
फेसबुक पर विदेशी महिला

स्पेशल टास्क फोर्स एवं साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन उत्तराखण्ड की संयुक्त कार्यवाही में फेसबुक पर विदेशी महिला बन दोस्ती कर धोखाधड़ी करने वाले 03 लोगों को गिरफ्तार किया है।

फेसबुक पर विदेशी महिला बन विदेश से गिफ्ट/धनराशि भेजने का लालच देकर उनसे ठगी करने के मामले बहुत आ रहे थे।

ऐसा ही एक प्रकरण देहरादून में घटना घटित हुयी, जिसमें फेसबुक पर उनकी दोस्ती एक विदेशी महिला से हुई।

खास खबर-हरिद्वार बालिका के दुष्कर्म मामले में उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला

जिसने उनको विदेश से उपहार रूप में 19000 EURO (17 लाख) भेजने की बता कही गयी।

इसके बाद पीड़ित को कोरियर सर्विस के बहाने फोन आता है कि आपके नाम का पार्सल आया है।

जिसके Over weight होने के कारण 15560/- रुपये, consideration charges के नाम पर 23599/-,

Income tax के नाम पर 65000/- रुपये, Anti drugs terrorist charges के नाम पर Rs. 58500/-,

High Court Charges एवं अन्य विभिन्न टैक्स के नाम पर रूपये 01 करोड़ 12 लाख 63 हजार 945 रुपये की धनराशि विभिन्न बैंक खातो में जमा कराकर धोखाधड़ी की गयी।

वादी द्वारा की गई शिकायत के आधार पर मुकदमा अपराध संख्या 21/19 पंजीकृत किया गया ।

प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुये प्रकरण के अनावरण, अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु मनोहर सिंह दसौनी के नेतृत्व में गठित की गयी ।

पुलिस टीम द्वारा पूर्व में 01 विदेशी नागरिक (नाईजीरियन मूल) सहित 02 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है।

तथा प्रकरण में 16 बैंक खातो को फ्रीज* कराया गया है।

पूछताछ पर यह बात सामने आई कि उनके सहयोगी नाईजीरियन विदेशी मूल के व्यक्ति है।

जो फेसबुक पर विदेशी महिला बनकर विभिन्न लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर विदेश से पैसा/गिफ्ट आदि भेजने के नाम पर धोखाधड़ी करते हैं।

इसके लिए ये लोग फर्जी सिमकार्ड, वॉलेट, पे टी एम मर्चैंट व बैंक खाते उपलब्ध कराते हुये धोखाधड़ी को अन्जाम दिया जाता है।

इस धोखाधड़ी में 1.5 -2 प्रतिशत नाईजीरियन व्यक्तियों को इस कार्य के लिये इन्हें दिया जाता है।

चौंकाने वाली बात यह भी प्रकाश में आयी है कि ये लोग इस काम के लिए अलग अलग मोबाईल कम्पनियों के

सिम डिस्ट्रीब्यूटर के रुप में कार्य किया जाता है।

फर्जी आई0डी0 पर प्रीएक्टीवेडेट सिम का प्रयोग अपराध कारित करने के लिये किया जाता है ।

कुछ इस तरह बनाते थे अपना शिकार…….

ये लोग फेसबुक पर विदेशी महिला बनकर दोस्ती का प्रस्ताव भेजते है।

उन्हे विदेश से गिफ्ट/धनराशि भेजने का लालच देकर जाल में फंसाते है,

गिफ्ट/धनराशि के कस्टम आदि स्थानो पर फसें होने का झांसा देकर विभिन्न टैक्स आदि के नाम पर धनराशि विभिन्न खातो में मंगाते है।

जिस के लिए फर्जी आई0डी0 पर सिम प्राप्त कर उक्त सिमो पर मर्चेन्ट/ई-वॉलेट खोलकर उनसे बैक खातो को लिंक करवाकर लोगो से फ्रॉड करते है ।

 

admin