रुद्रपुर (अरुण शर्मा)। अपनी ही सरकार के मुख्यमंत्री के खिलाफ धरने पर बैठेंगे बीजेपी विधायक। जी हां रुद्रपुर से बीजेपी के विधायक राजेश शुक्ला ने यह घोषणा की है।

दरअसल सोमवार को विधायक जी अस्पताल प्रशासन के रवैये को लेकर नाराज हो गए और अस्पताल में ही धरने पर बैठ गए।

साथ ही उन्होंने एक हफ्ते में कोई कार्यवाही न होने पर सी एम आवास पर धरना देने की घोषणा कर डाली।

क्यों हुए विधायक आग बबूला….

किच्छा के भंगा क्षेत्र की रहने वाली पार्वती की अचानक प्लेटलेट्स कम हो जाने के कारण जब उसे किच्छा के सरकारी अस्पताल ले जाया गया तो वहां से उसको रुद्रपुर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया वही रुद्रपुर अस्पताल के डॉक्टर विधायक राजेश शुक्ला के कहने के बावजूद अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती नहीं किया गया

यहां से मेडिसिटी रेफर कर दिया गया मेडिसिटी में जॉब एडवांस पैसे मांगे गए तो पार्वती के परिवार के पास पैसे ना होने के चलते उसे मेडिसिटी अस्पताल में भी भर्ती नही किया।

उसे सुशीला तिवारी अस्पताल भेज दिया गया जब सुशीला तिवारी अस्पताल पार्वती को लेकर उसके परिजन पहुंचे।

विधायक राजेश शुक्ला के कहने केे बाद भी उसे भर्ती करने की जगह वहां से वापस भेज दिया।

जिसके बाद रुद्रपुर अस्पताल लाने पर यहां पार्वती की मौत हो गई। फिर।क्या था विद्यायक जी अस्पताल पहुंच गए और धरने पर बैठ गए।

विधायक राजेश शुक्ला ने अस्पताल प्रबंधन को जमकर खरीखोटी सुनाई। अधिकारियों से बात करने और उनके कायर्वाही के आश्वाशन के बाद वो धरने से उठे।

राजेश शुक्ला ने कहा कि वह डॉक्टर को भगवान के बाद दूसरे नंबर पर मानते थे लेकिन रुद्रपुर अस्पताल में इन दिनों कुछ डॉक्टर भगवान नहीं बल्कि शैतान के रूप में काम कर रहे हैं.

विधायक जी की चेतावनी………

बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला ने साफ शब्दों में कहा कि अगर 1 सप्ताह के अंदर लापरवाह स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और डॉक्टरों के खिलाफ कार्यवाही नहीं होती है तो वह मुख्यमंत्री कार्यालय पर धरना देकर प्रदर्शन करेंगे….

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *