उत्तराखंड में पर्यटन से ऐसे रुकेगा पलायन,सरकार करने जा रही ये काम

उत्तराखंड में पर्यटन से ऐसे रुकेगा पलायन,सरकार करने जा रही ये काम

देहरादून (पंकज पाराशर)। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि उत्तराखंड ईको टूरिज्म (Eco tourism) के माध्यम से पर्वतीय जिलों में रोजगार पैदा किया जाएगा। साथ ही पलायन रोकने पर भी काम होगा। साथ ही विभिन्न ईको टूरिज्म स्पॉट्स और होम स्टे योजना को नजदीकी ट्रैकिंग स्थलों, मंदिरों, अन्य पर्यटक स्थलों से जोड़ने पर बल दिया।

खास खबर—आयुष्मान योजना में इन अस्पतालों को किया शामिल,ऐसे ले पायेगें योजना का लाभ

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री (cm) आवास में ग्राम्य विकास एवं पलायन आयोग की ईको टूरिज्म रिपोर्ट का विमोचन किया। रिपोर्ट में राज्य में प्रकृति आधारित पर्यटन गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। साथ ही ईको टूरिज्म के माध्यम से पर्वतीय जिलों में रोजगार के अवसर पैदा करने और पलायन रोकने पर भी चर्चा की गई है।

इस दौरान पलायन आयोग (palayan ayog) ने सुझाव दिया कि उत्तराखंड सिर्फ एक ही एजेंसी ईको टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन इको टूरिज्म विकास के कार्य करे।ईको टूरिज्म के संबंध में पर्याप्त अद्यतन जानकारी एक वेबसाइट या वेब एप पर उपलब्ध हो। साथ ही जीपीएस सिस्टम को मजबूत किया जाए। ईको टूरिज्म स्थलों पर जल संरक्षण, वर्षाजल संग्रहण, गैर पारंपरिक ऊर्जा के स्रोतों, सुदृढ दूरसंचार व्यवस्था, कचरा प्रबन्धन, शौचालयों का प्रबंध, ईको टूरिज्म में स्थानीय समुदायों की भागीदारी, कुशल यातायात प्रबंधन का प्रावधान किया जाए।

admin