पिंक सिटी की तर्ज पर ‘फसाड़’ से बदलेगें उत्तराखंड के भवन

पिंक सिटी की तर्ज पर ‘फसाड़’ से बदलेगें उत्तराखंड के भवन

देहरादून(अरुण शर्मा)। पिंक सिटी हो या फिर दिल्ली का कनॉट प्लेस की तरह ही उत्तराखंड में भी एक ही स्वरुप के भवन दिखायी देगें। सरकार की मुहिम अगर परवान चढ़ी तो बहुत ही जल्द देहरादून में इसका असर देखने को मिलेगा। राजधानी सहित प्रदेश के तमाम स्थानों में भवनों का सामने का रूप ‘फसाड'(मुखौटा) योजना के माध्यम से एक जैसा नजर आएगा। यह रूप यहां की पारंपरिक शैली के अनुरूप ही होगा।

खास खबर—यूनिक नंबर की इस बोली ने तोड़े अभी तक के सारे रिकार्ड,जानिए किसने लगायी यह बोली

‘फसाड’ योजना को लेकर सरकार ने मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण (एमडीडीए) उपाध्यक्ष डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया है। जो बैठक कर प्रदेश में भवनों में एकरूपता लाने पर विचार-विमर्श करेगी। समिति की पहली बैठक के बाद एमडीडीए उपाध्यक्ष ने बताया कि दून में यूरोपीय शैली के भवनों की बाहुल्यता रही है। इसी तरह हरिद्वार-ऋषिकेश की पहचान उसकी धार्मिक शैली रही है। वहीं, गढ़वाल व कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्रों में पहाड़ी शैली के भवन ही अस्तित्व में रहे हैं।

फसाड की पहली बैठक में समिति के सदस्यों ने अपने-अपने सुझाव दिए हैं। कुछ और बैठकों में सुझावों को अमलीजामा पहनाया जाएगा और फिर भवनों की पारंपरिक शैली को बढ़ावा देने के लिए नीति तैयार की जाएगी।

बदलेगा सिर्फ भवनों का सामने रूप

डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि फसाड के तहत सिर्फ भवनों के सामने के रूप में एकरूपता लाई जाएगी। यानी कि भवनों की भीतर की बनावट व पिछले हिस्से में किसी तरह की तब्दीली की जरूरत नहीं पड़ेगी। एमडीडीए उपाध्यक्ष के अनुसार समिति के सदस्यों को पहली बैठक में निर्देश दिए गए हैं कि वह क्षेत्रवार भवनों के डिजाइन पर सुझाव दें। अगली बैठक में सभी सदस्य सुझाव लेकर आएंगी और फिर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

admin