हरिद्वार ( विकास चौहान )। उत्तराखंड (Uttarakhand) वासियों को आदिवासी श्रेणी का घोषित किए जाने को लेकर बनाया गए जनाधिकार आंदोलन संगठन क्या आज हरिद्वार के एक होटल में बैठक हुई । जनाधिकार आंदोलन हरिद्वार की एक महत्वपूर्ण बैठक आज मध्य हरिद्वार में सम्पन्न हुई। जिसमें उनका मानना था कि उत्तराखंड  (Uttarakhand) वासियों को 200 यूनिट बिजली और पानी मुफ्त दिया कराया जाना चाहिए। विदित है कि ये अभियान किशोर उपाध्याय के नेतृत्व में पूरे प्रदेश में चल रहा है।

खास खबर :—प्रदेश सरकार के इस फैसले से नाराज संत करेगें Kumbh 2021 के स्नानों का बहिष्कार

आज हुई बैठक के दौरान आंदोलन के संयोजक अंशुल श्रीकुंज ने कहा कि उत्तराखंड सरकार से राज्य के लोगों को 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली और निशुल्क पानी उपलब्ध कराया जाना चाहिए। अंशुल श्रीकुंज ने कहा कि राज्य सरकार को उनकी इन दोनों माँगो पर पूरा करने लिए राज्य सरकार को ज्ञापन देंगे। यदि सरकार उनकी इस मांग को पूरा नहीं करती तो वे जनसमर्थन जुटाने के प्रयास करेंगे और एक वृहद आंदोलन की रुपरेखा तैयार कर सरक़ार से अपनी मांगे मनवाएंगे। बैठक में जनाधिकार आंदोलन के अध्यक्ष विभाष मिश्रा ने कहा कि उत्तराखंड राज्य पानी का भंडार है , यहाँ से बिजली और पानी लेकर दिल्ली जैसे राज्य के लोगो को निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है इसलिए यहाँ के लोगो को भी 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली और निशुल्क पानी मिलना चाहिए।
सुमित तिवारी व डॉ संतोष चौहान ने कहा कि जनाधिकार आंदोलन आमजन की आवाज़ बनेगा। जनहित के कई ऐसे बिंदु हैं जिन पर हमें काम करना है। उन्होंने कहा कि निशुल्क बिजली पानी के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाया जाएगा।
बैठक में अंशुल श्री कुंज,विभाष मिश्र,सुमित तिवारी, संतोष चौहान,कैलाश प्रधान, बी एस तेजियान, नितिन कौशिक, अंजू द्विवेदी, ग्रेस कश्यप, लक्ष्मण सिंह पुंडीर, सुरेन्द्रनाथ चतुर्वेदी, अशरफ अब्बासी, जटाशंकर श्रीवास्तव,नमन अग्रवाल, इरशाद खान, बीना कपूर, प्रेम शर्मा, शाहजहां मुमताज़, प्रतिभा रोहिला, वीरेंद्र भारद्वाज, तेजपाल सिंह, संजयलता शर्मा, सागर राजपूत, वीर सिंह, सुरेश पल, लवीश चौधरी, हरद्वारिलाल आदि उपस्थित थे।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *