राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की इस रेंज में बन रहा बाघ बाड़ा

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की इस रेंज में बन रहा बाघ बाड़ा

ऋषिकेश (कमल खड़का)। राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज में बन रहे बाघ बाड़े बनाया जा रहा है।

कॉर्बेट या दूसरे क्षेत्रों से मोतीचूर- धौलखंड क्षेत्र में बाघ शिफ्ट करने की योजना है।

खास खबर-पढ़े हरिद्वार एसएसपी पुलिस वालों को क्यों पिला रहे चाय

जिसके मद्देनज़र मोतीचूर रेज में बाघ बाड़ा बनाया जा रहा है।

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क में बाघ बाड़ा
राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क में बाघ बाड़ा का निरीक्षण करते विधान सभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल

बाघों को यहां लाकर मोतीचूर में बनाए गए बाड़े में रखा जाएगा।

वहां इनके व्यवहार पर नजर रखी जाएगी और फिर इन्हें मोतीचूर-धौलखंड क्षेत्र में छोड़ा जाएगा।

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने रविवार को राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज में बन रहे बाघ बाड़े का निरीक्षण किया।

इस दौरान अग्रवाल ने वन अधिकारियों से बाघ बाडे़ की प्रगति के बारे में जानकारी ली।

अवगत करा दें कि राजाजी नेशनल पार्क का 550 वर्ग किमी का मोतीचूर-धौलखंड क्षेत्र वीरान सा है।

वहां पिछले सात साल से सिर्फ दो बाघिनें ही हैं। दरअसल, पार्क से गुजर रहे हाइवे और रेल लाइन के कारण बाघों की आवाजाही एक से दूसरे क्षेत्र में नहीं हो पाती।

यही वजह है कि गंगा के दूसरी तरफ के चीला, गौहरी और रवासन से बाघ मोतीचूर-धौलखंड क्षेत्र में नहीं आ पाते।

इस सबको देखते हुए कॉर्बेट या दूसरे क्षेत्रों से मोतीचूर- धौलखंड क्षेत्र में बाघ शिफ्ट करने की योजना बनी।

जिसके मद्देनज़र मोतीचूर रेज में बाघ बाड़ा बनाया जा रहा है।

विधानसभा अध्यक्ष के द्वारा निरीक्षण के दौरान पूछने पर रेंजर महेंद्र गिरी ने बताया कि बाघ शिफ्टिंग के मद्देनजर सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं।

बाघों को यहां लाकर मोतीचूर में बनाए गए बाड़े में रखा जाएगा।

वहां इनके व्यवहार पर नजर रखी जाएगी और फिर इन्हें मोतीचूर-धौलखंड क्षेत्र में छोड़ा जाएगा।

रेडियो कॉलर से इन पर निरंतर नजर रखी जाएगी।

बताया कि बाघ बाड़े की हाथियों से सुरक्षा के दृष्टिगत इसके चारों तरफ सोलर पावर फेंसिंग भी की जा रही है।

रेंजर ने बताया कि बाड़े में पाँच बाघों को लाने की योजना बनायी गई है जिन्हें चरणबद्ध तरीक़े से बाड़े में लाया जाएगा।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने जंगल सफारी का लुप्त भी उठाया।

वहीं विधानसभा अध्यक्ष ने वन अधिकारियों से राजाजी नेशनल पार्क में आने वाले सैलानियों एवं पर्यटक की संख्या के बारे में जानकारी ली।

admin