एसआईटी ने माना छात्रवृत्ति में हुआ बड़ा घोटाला,कोर्ट ने लगायी फटकार
 

नैनीताल(ब्यूरो)। उत्तराखंड में अनुसूचित जाति व जनजाति छात्रों की छात्रवृत्ति घोटाले के मामले मे राज्य सरकार की मुश्किले बढती जा रही है। सोमवार को एसआईटी के अध्यक्ष टी सी मंजूनाथ ने माना कि प्रदेश में छात्रवृति के नाम पर बड़ा घोटाला हुआ हैं। मंजूनाथ ने कोर्ट में शपथ पत्र पेश इस बात को स्विकार किया हैं। सोमवार को सुनवाई के दौरान राज्य सरकार ने इस मामले में अपना जवाब दाखिल करने के लिए दो दिन का अतरिक्त समय माॅगा है वही कोर्ट ने मामले में नाराजगी व्यक्त करते हुए हुए फिर से राज्य सरकार को 2 दिन के भीतर विस्तृत जवाब पेश करने के आदेश दिए है।

खास खबर—चुनाव तैयारी पर पूर्व सैनिको ने दिया झटका,हंगामे के बाद भाजपा को बताया मौका परस्त

बता दें की राज्य आंदोलनकारी रविन्द्र जुगरान ने जनहित याचिका दायर कर कहा है कि समाज कल्याण विभाग द्वारा 2003 से अब तक अनुसूचित जाति व जनजाति के छात्रों का छात्रवृत्ति का पैसा नहीं दिया गया जिससे स्पष्ट होता है कि 2003 से अब तक विभाग द्वारा करोड़ों रूपये का घोटाला किया गया है, जबकी 2017 में इसकी जांच के लिए पुर्व मुख्यमन्त्री द्वारा एसआईटी गठित की गयी थी और 3 माह के भीतर जांच पूरी करने को भी कहा था परन्तु इस पर आगे की कोई कार्यवाही नही हो सकी, साथ ही याचिकाकर्ता का यह भी कहना है कि इस मामले में सीबीआई जांच की जानी चाहिए, आज मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट की खंडपीठ ने मामले में शख्त रूख अपनाते हुए मुख्य सचिव व राज्य सरकार को शपथ पत्र पेश करने को कहा है, मामले की अगली सुनवाई 9 जनवरी को होगी।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *