शहीद की पत्नि की इस विदाई पर हो गयी आखें नम और दिल रुआँसा

शहीद की पत्नि की इस विदाई पर हो गयी आखें नम और दिल रुआँसा

देहरादून(अरुण शर्मा)। पुलवामा एनकांउटर में शहीद हुए देहरादून के मेजर विभूति की पत्नी निकिता ने अंतिम विदाई कुछ ऐसा कर दिया जिसने सभी के न केवल रौंगटे खड़े कर दिये अपितु कोई अपनी आखें नम होने से नहीं रोक पाया। अपने पति की अनंत यात्रा पर उनकी पत्नि ने उन्हे सैल्यूट कर विदाई दी। जिसने भी यह देखा वह गमगीन होने के साथ शहीद मेजर विभूति की ​पत्नि निकिता के साहस को दाद देने से नहीं रोक पाया। आपको बता दें कि मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल पुलवामा में आतंकीयों से लोहा लेते हुए शहीद हो गये थे। शहीद मेजर विभूति को पूरे राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ हरिद्वार में अतिंम विदाई दी गयी।

खास खबर—लॉटरी के नाम पर ठगी का यह मामला अनूठा है-घटना हरिद्वार की

शहीद मेजर विभूति ढौंडियाल अपनी अनंत यात्रा की तैयारी में थे हर जगह गम और आक्रोश का माहोल था। परिवार पर तो न मानो पहाड़ ही टूट गया हो। अतिंम सफर पर निकले शहीद मेजर को उनकी पत्नि की अतिंम विदाई ने सबको झकझोर कर रख दिया। शहीद मेजर ढौंडियाल की पत्नि निकिता ने उन्हे सैल्यूट कर विदाई दी। नम आंखो से अपने शहीद पति को दी गयी इस विदाई ने हर किसी को अंदर तक झकझोर कर रख दिया।

सेना में जाने का था जनून

मेजर विभूति ढौंडियाल को बचपन से ही सेना में जाने का जुनून था। वे दो बार असफल हुए, लेकिन फिर मंजिल तक पहुंच कर ही दम लिया। मेजर बनने के बाद उनका जोश और जुनून दोगुना हो गया था। शहीद मेजर विभूति ढौंडियाल के दोस्तों ने उनके जुनून की कहानी बयां की। दोस्त मयंक ने बताया कि वह दोनों बचपन से ही साथ पढ़े। वर्ष 2000 में सेंट जोजेफ्स एकेडमी से 10वीं और 2002 में पाइन हॉल स्कूल से 12वीं पास की। इसके बाद डीएवी से बीएससी की पढ़ाई पूरी की।

admin