पहाड़ पर स्वास्थ्य सेवाओं में मिल का पत्थर साबित होगा ‘हंस जरनल अस्पताल’

पहाड़ पर स्वास्थ्य सेवाओं में मिल का पत्थर साबित होगा ‘हंस जरनल अस्पताल’

पौड़ी गढ़वाल(जगमोहन ‘आजाद’)।पहाड़ के दूरस्थ क्षेत्रों में विकास की अलख जलती रहे। हमारे नौनीहाल अच्छी शिक्षा ग्रहण कर अपनी जीवन यात्रा में आगे बढ़े। हमारा यही प्रयास है। हम अपनी सेवाओं के माध्यम से पहाड़ के दूरस्थ क्षेत्रों में स्वास्थ्य-शिक्षा से लेकर लोक संस्कृति एवं लोक परंपराओं के संरक्षण के लिए प्रयासरत है। उक्त विचार मंगला माता ने विकास खण्ड पोखड़ा,जिला पौड़ी गढ़वाल में पहली बार आयोजित पोखड़ा महोत्सव में व्यक्त किए।

खास खबर—प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बन रही फिल्म् की शूटिंग होगी उत्तराखंड में
विकास खण्ड पोखड़ा,जिला पौड़ी गढ़वाल में पहली बार आयोजित पोखड़ा महोत्सव में पहुंचे मंगला माता एवं भोलेजी महाराज ने ग्रामीण विकास एवं कई स्कूलों एवं छात्र-छात्राओं को तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में निपुणता प्रदान करने के लिए कम्प्यूटर एवं जरूरी सामान प्रदान किया। साथ ही दो सरस्वती विद्या मंदिर स्कूलों के बच्चों के स्कूल आवागमन के लिए स्कूल बस भेंट की।
इस मौके परमंगला माता ने कहा कि हंस फाउण्डेशन द्वारा संचालित द्वाराहाट के धर्मा गांव, गरूड़ के पुरोडा गांव, घाट के कुमजुंग गांव व एकेश्वर ब्लॉक के बरेथ मल्ला में पेयजल परियोजनाओं का शुभारम्भ जल्द होने जा रहा है। पोखड़ा महोत्सव में शामिल हुए हजारों लोगों को संबोधित करते हुए मंगला माता ने कहा कि मुझे आपको बताते हुए खुशी हो रही है कि हंस फाउण्डेशन द्वारा उत्तराखण्ड के 100 गांवों में 83 योजनाएं संचालित की जा रही है जिसके माध्यम से 4429 घरो में लगभग 22000 लोग लाभान्वित हो रहे हैं। उक्त पेयजल योजनाओं में 11 पम्प बेस्ड है तथा शेष ग्रेविटी बेस्ड पेयजल योजनाएं है। पौड़ी जिले के जहरीखाल ब्लॉक के 16 गांवों में भी उक्त पेयजल योजनाओं का द्वितीय चरण आरम्भ हो चुका है। हमारे बच्चे तकनीक शिक्षा से जुड़कर अपने भविष्य निर्माण में आगे बढ़े इसके लिए फाउण्डेशन द्वारा अपग्रेडेड 10 स्कूलों में 20 स्मार्ट क्लासेज का शुभारम्भ किया जा रहा है।
हंस फाउण्डेशन के तत्वावधान में राज्य में 95 मॉडल स्कूल विकसित किए गए है। राज्य सरकार व हंस फाउण्डेशन मिलकर देहरादून के केदारपुरम स्थित नारी निकेतन रहने वाली महिलाओं को मुख्यधारा से जोड़ने हेतु कम्युनिटी हाउसिंग की योजना पर कार्य करने जा रहे है। पिथौरागढ़ में 2.5 करोड़ रूपये की लागत से आईसीयू स्थापित हो चुका है तथा पौड़ी में आईसीयू जल्द आरम्भ होगा। हंस फाउण्डेशन द्वारा देहरादून, रूड़की, काशीपुर, रूद्रपुर, सितारगंज, नैनीताल व हरिद्वार में सात सेन्ट्रलाइज किचन बनाई जा रही है। काशीपुर व सितारगंज में सेन्ट्रलाइज किचन के लिए सरकार द्वारा भूमि आवंटित कर दी गई है। इससे लगभग तीन लाख विद्यार्थियों को लाभ पहुचेगा। इसी के साथ राज्य के 5519 स्कूलों में गैस कनेक्शन पहुंचाए गए है तथा 865 स्कूलों में गैस स्टोव पहुँचाए जा रहे है। राज्य में 21 मेडिकल मोबाइल यूनिट के माध्यम से लगभग 5 लाख मरीजों को लाभ पहुचाया जा रहा है। हल्द्वानी व दून मेडिकल कॉलेज को एक-एक मेमोग्राफी वेन उपलब्ध करवाई गई है।
इसी के साथ हम शिवंश खाद के माध्यम से हम किसानों को जैविक खेती के लिए भी प्रोत्साहित करने की दिशा में काम कर रहे हैं। शिवंश खाद एक मुफ्त मे बनने वाली खाद है जो बंजर ज़मीन को लहलहाते खेत में बदल देती है, जिससे किसानों की रसायनों पर निर्भरता कम हो जाती है और उनका मुनाफा बढ़ जाता है। शिवंश खाद जो खेतों में पड़े सूखे पत्ते, ताजा घास, फसल के अवशेष, गोबर को उन्हें इकठ्ठा कर के एक ढेर में डाल कर बनायी जाती है। हर दूसरे दिन ढेर को पलटने के अलावा सारे काम प्रकृति खुद कर देती है। यह खाद 18 दिनों के बाद हमें मिलती है जो सूक्ष्मजीवों से भरी हुई एक पोषक खाद है। शिवंश खाद का खेतों में इस्तेमाल पहले सीज़न में ही बंजर मिट्टी को फिर से जीवित कर देता है। शिवंश खाद दुनिया भर के किसानों के जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन ला सकता है। इस दिशा में हमने देश भर 14 सौ और उत्तराखंड में लगभग 350 शिवंश खाद बनने की प्रक्रिया सिखायी है। जो इस खाद के माध्यम से अपनी फसलों को नया जीवन तो दे ही रहे हैं। साथ ही जैविक खेती का लाभ भी ले रहे हैं।
हंस बाल आरोग्य कार्यक्रम की बात करे तो इसके तहत 1305 बच्चों को कैंसर, किडनी सम्बन्धित गम्भीर बीमारियों के उपचार हेतु सहायता दी गई है।
मंगला माता लोगों से आह्वान किया कि हंस जरनल अस्पताल सतपुली में हम सुपर स्पेशलिटी कैंप का आयोजन करने जा रहे हैं। इस कैंप में बड़ी से बड़ी बीमारियों के इलाज के लिए देश के स्पेशलिस्ट डाक्टर उपलब्ध होंगे। आप इस कैंप में बड़ी संख्या में पहुंचकर हर तरह की बीमारी का इलाज करवा सकते हैं।
इसी के साथ मंगला माता एवं भोलेजी महाराज के आशीष से पोखड़ा महोत्सव में एक वाटर कूलर, तेहरा कॉलेजों को कंप्यूटर और प्रींटर, पचास कानों की मशीनें, दो सौ स्टीक, चार सौ चश्मे, सौ कंबल, सौ शॉल, पांच सौ स्मृति चिह्न और पोखड़ा स्कूल का रखरखाव हेतु सहयोग एवं स्कूल में छैः सीसीटीवी लगवाने के लिए सहयोग प्रदान किया गया। साथ ही पोखड़ा स्कूल में एक कम्प्यूटर लेब का निर्माण और पांच कम्प्यूटर प्रदान किए ताकि यहाँ शिक्षिका ग्रहण कर रहे छात्र-छात्राओं का भविष्य बेहतर हो सके। इसी के साथ माताश्री मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज जी की प्रेरणा से पोखड़ा स्कूल में एक स्नैट्री नैपकिन वेडिंग मशीन भी लगाई है।

admin