इंटरनेशनल वुमेन इंपावरमेंट समिट एण्ड अर्वाडस के इंडिया चैप्टर का शुभारंभ
 

देहरादून(अरुण शर्मा)। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इंटरनेशनल वूमेन प्रोग्राम के तहत आईडब्ल्यूईएस के इंडिया चैप्टर— 2019 का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम का मुख्य उददेश्य महिलाओं से जुडी चुनौतियों को ऐसा मंच प्रदान करना हैं। ​जंहा महिलाओं को उनकी प्रतिभा दिखाने का पूरा मौका मिल सके। इंटरनेशनल वुमेन इंपावरमेंट समिट एण्ड अर्वाडस का मुख्य आर्कषण महिलाओं से जुड़े मुददे के कार्यक्रम रहे। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विख्यात आरुषी निंशक ने महिला सशक्तिकरण को अपने दिल के करीब बताते हुए कहा कि इस समाज के प्रति मेरी कुछ जिम्मेदारी है और शायद यही वजह है कि नारी सम्मान को लेकर मै किसी भी तरह के कार्यक्रम में अपनी भागीदारी करने से नहीं रोक पाती।

खास खबर— खुशखबरी—डबल इंजन यहां खोलने जा रहा नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी

दिल्ली के अशोका होटल में आयोजित कार्यक्रम में जंहा केंद्र से जुड़े हुए कई बड़े मंत्रीयों ने शिरकत की। तो वहीं इस चैप्टर के कार्यक्रम में महिलाओं से जुड़े मुददों पर हुए कार्यक्रम विशेष आर्कषण का केंद्र रहे। आपको बता दें कि इससे पहले दुबई में आयोजित हुए चैप्टर में 9 देशों की कामयाब महिलाओं ने भाग लेकर इसकी निति के गठन का काम किया था। जिसका एक ज्ञापन यूएई और भारत सरकार को सयुंक्त रुप से भेजा गया था।

आईडब्ल्यूईपी की चैयरपर्सन आरुषी निशंक ने कहा कि महिला कारोबार,परिवार और किसी भी संगठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं इसलिए उनकी क्षमता को समझना बहुत जरुरी हैं। आज के समय में जब आज महिलओं की भागीदारी के साथ जिम्मेदारी बढ़ रही है तो उस माफिक उनकी सुरक्षा एक एक बड़ा सवाल बना हुआ हैं। उन्होने महिलाओं की शिक्षा,आत्म निर्भरता पर ​ध्यान दिया जाना बहुत अहम हैं।

कौन है आरुषी निशंक
उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा सांसद रमेश पोखरियाल निशंक की सुपुत्री, सुप्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना एवं फिल्म निर्मात्री आरुषि पोखरियाल निशंक को अंतरराष्ट्रीय पत्रिका “फोब्स मिडिल ईस्ट” में उनकी विशिष्ट उपलब्धियों के लिए स्थान मिला है। आरुषि को यह सम्मान पत्रिका में महिला सशक्तीकरण एवं समाजसेवा के क्षेत्र में मिला है।

यह पहला मौका है जब सुप्रसिद्ध फोब्स पत्रिका में उत्तराखंड की किसी शख्शियत को स्थान मिला है। “फोब्स” ने उत्तराखंड की बेटी आरुषि को महिला सशक्तिकरण और समाज सेवा के लिए एक उदाहरण के रूप में प्रस्तुत किया है। पत्रिका के ‘गर्ल्‍स पवार’ अंक में आरुषि की ओर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इंटरनेशनल वूमेन प्रोग्राम (आईडब्ल्यूईएस) की सराहना की गई है।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *