इन्वेस्टर्स समिट के आगाज ने उत्तराखंड में लगाये नयी संभावनाओं को पंख

इन्वेस्टर्स समिट के आगाज ने उत्तराखंड में लगाये नयी संभावनाओं को पंख

देहरादून(अजंलि अग्रवाल)। राज्य के पहले इन्वेस्टर्स समिट (Investor Submit) को लेकर सभी तैयारीयां पूरी कर ली गयी हैं। निवेशकों (Investors) के स्वागत के लिए दून को दुल्हन की तरह सजाया गया हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अन्तर्राष्टीय क्रिकेट (cricket) स्टेडियम रायपुर में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट की अन्तिम तैयारियों का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने सम्बन्धित अधिकारियों को सभी तैयारियां ससमय व सुव्यवस्थित पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निवेशकों व प्रतिभागियों के सहयोग, सुविधा व सहायता हेतु सभी व्यवस्थाएं चाक-चैबन्द की जाए। नारायण दत्त तिवारी के बाद ​राज्य में उधोगों व निवेशकों को आर्कषित करने के लिए की गयी इस पहल ने नये उत्तराखंड की परिकल्पना को पंख लगाने का काम किया हैं।

खास खबर—देखें विडियो—आइपीएस की पत्नि ने बीजेपी नेता की पिटाई कर कैसे सिखाया सबक ,विडियो हुआ वाइरल

अलग राज्य बनने के बाद पहली बार इन्वेस्टर्स समिट की मेजबानी करने जा रहे उत्तराखंड (Uttrakhand) को इस आयोजन से बहुत अधिक उम्मीदें हैं। शुरुआत में 40 हजार करोड़ के निवेश की उम्मीद कर रही सरकार अब समिट से पहले ही यह आंकड़ा लगभग दोगुना, 80 हजार करोड़ के आसपास पहुंच जाने से लाजिमी तौर पर उत्साहित है।

मीडिया से अनौपचारिक बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र (Cm Trivendr) ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उद्यमियों को उद्योगो के अनुकूल वातावरण उपलब्ध कराने का परिणाम है कि बड़ी संख्या में उद्यमी राज्य में निवेश के इच्छुक है। निवेशकों द्वारा राज्य में नए उद्योगों की स्थापना व पुराने व स्थानीय उद्यमों के विस्तार से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर खुलेंगे व पलायन पर प्रभावी अंकुश लगेगा। उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर्स समिट ऐतिहासिक है। हमारे पास लगातार निवेशक आ रहे हैं। पंजीकरण निरन्तर बढ़ते जा रहे हैं। यह निवेश राज्य के विकास व प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

-उत्तराखंड के परिप्रेक्ष्य में देखें तो भारी उद्योगों की यहां सीमित संभावनाएं हैं। इसलिए जरूरत के हिसाब से सर्विस सेक्टर आधारित उद्योगों को प्राथमिकता दिए बिना यह राज्य आगे नहीं बढ़ सकता। सर्विस सेक्टर उत्तराखंड को सबसे ज्यादा फायदा दे सकता है। सर्विस सेक्टर में भी टूरिज्म ऐसा क्षेत्र है, जो राज्य की आर्थिकी को पूरी तरह से बदल सकता है।

-पर्यटन के साथ साथ फिल्म शूटिंग ऐसा क्षेत्र है, जिसकी चर्चा हाल के कुछ महीनों में सबसे ज्यादा हो रही है। फिल्म शूटिंग के लिए भरपूर प्राकृतिक सौंदर्य राज्य में है। फिल्म शूटिंग के लिए शांत, अनुकूल वातावरण यहां मिलता है, इस बात का अनुभव कई फिल्म निर्देशक कर चुके हैं। फिल्मों की शूटिंग के प्रस्तावों को सिंगल विंडो क्लीयरेंस मिलने से उत्तराखंड के प्रति फिल्मकारों का रुझान बढ़ा है। इन तमाम बातों के आधार पर कहा जा सकता है कि इन्वेस्टर्स समिट के दौरान निवेशक किसी क्षेत्र में सबसे ज्यादा रुचि दिखाएंगे तो वह है टूरिज्म एंड हॉस्पिटेलिटी।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *