अवैध खनन का खेल, आखिर कहां है चूक
 

सुल्तानपुर(नाथीराम कश्यप)। अलावलपुर गांव के निकट बाणगंगा में तालाब खुदाई की परमिशन के नाम पर कुछ लोग पोकलैंड जेसीबी और ट्रैक्टर- ट्रालीओं के द्वारा दिन-रात अवैध खनन करने में जुटे हुए हैं। साथ ही खनन सामग्री से खुदाई किये जा रहे तालाब के किनारे (ढांग) बनाने के बजाय अवैध खनन सामग्री को स्टोन क्रेशरों में बिक्री कर चांदी काट रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासनिक अधिकारी से मांग करने के बावजूद भी बाणगंगा में अवैध खनन नहीं रुक पा रहा है।

खास खबर—हरीश धामी के पक्ष में उतरे हरीश रावत,सोशल मिडिया पर पोस्ट कर किया खुलासा
सुल्तानपुर क्षेत्र के अलावलपुर गांव के पास बाणगंगा में एक तालाब खुदाई की परमिशन मिली हुई है। जिसकी आड़ में कुछ लोग जमकर अवैध खनन कर रहे हैं। अलावलपुर गांव के ग्रामीणों का कहना है कि बाणगंगा में तालाब बनाने की परमिशन के नाम पर कुछ लोग आधा दर्जन पोकलैंड और जेसीबी और करीब दो दर्जन से अधिक ट्रैक्टर-ट्रालीयों से खनन सामग्री निकाल रहे हैं।

साथ ही उस खनन सामग्री को तालाब के किनारे ढांग बनाने के बजाएं उसे स्टोन क्रेशरओं में बिक्री कर चांदी काट रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले करीब चार दिनों से बाणगंगा में दिन-रात जमकर अवैध खनन किया जा रहा है।
इस संबंध में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को मामले की जानकारी देकर अवैध खनन पर रोक लगाए जाने की मांग की गई है। लेकिन अवैध खनन रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि अवैध खनन होने के चलते बाणगंगा के रास्ते में जगह-जगह गहरे-गहरे गड्ढे बन गए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इन गड्ढों से भविष्य में दुर्घटना होने की संभावना बनी हुई है।

– तहसीलदार लक्सर सुनैना राणा का कहना है कि मामला संज्ञान में है। इसकी जांच की जा रही है। अगर कोई तालाब परमिशन के नाम पर अवैध खनन करता पाया गया तो उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *