किसान करने जा रहे है बड़ा आंदोलन
 

हरिद्वार(कमल खड़का)। सरकार के इस वादे के खिलाफ किसानों ने दिल्ली की तर्ज पर बड़े आंदोलन की तैयारी करनी शुरु कर दी हैं। पिछले 8 माह से रुड़की के बहिस्तीपुर में धरने पर बैठे किसानों के समर्थन में उतरी भारतीय किसान यूनियन ने इस आंदोलन का बिगुल बजा दिया हैं। महीनो से चल रहे धरने पर चार किसानों के 26 जनवरी को आत्मदाह करने के ऐलान के बाद से गायब हुए किसानों की सूचना से मामला तूल पकड़ता नजर आ रहा हैं। भारतीय किसान यूनियन ने केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए दिल्ली की तर्ज पर आंदोलन की चेतावनी दी हैं।

खास खबर—हरिद्वार-देहरादून राष्ट्रीय राजमार्ग पर मुख्यमंत्री हुए सख्त,अधिकारीयों की ली क्लास

भारतीय किसान यूनियन के नेता संजय चौधरी ने रुड़की किसानों के धरने का सर्मथन करते हुए कहा कि देवबंद/रुड़की रेलवे लाइन के लिए 2011 में किसानों की जमीनें अधिग्रहण की गयी थी। जमीनों के बदले लगभग 3 लाख रुपये बीघा मुआवजा और एक एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी देने का वायदा किया गया था। लेकिन सरकार अपने वायदे से मुकर गयी, ना तो अभी तक किसानों को मुआवजा दिया गया और ना ही सरकारी नौकरी, जिसको लेकर किसान पिछले 8 महीनों से धरना दे रहे है, लेकिन सरकार का कोई नुमाइंदा उनकी सुध लेने नही पहुँचा, उन्होंने बताया धरनारत किसानों में से चार किसानों ने 26 जनवरी को आत्मदाह की चेतावनी दी थी। लेकिन वो चारो किसान प्रशासन के डर से धरनास्थल से गायब है।

संजय चौधरी ने बताया यदि किसानों ने आत्मदाह किया तो भारतीय किसान यूनियन दिल्ली की तर्ज पर बड़ा आंदोलन करेगी, उन्होंने उत्तराखंड पर भी किसान विरोधी होने का आरोप लगाया, कहा वर्तमान सरकार ने किसान हित में एक भी कदम नही उठाया, साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा किसानो के कर्ज माफ ना करने वाले बयान पर कहा सरकार अपना अपना फायदा कर रही है। सातवां वेतन लागू करके अपनी तनख्वाह बढा ली लेकिन किसानो के लिए इनके पास कुछ नही है। संजय चौधरी ने बताया सरकार ने डेड गुना मूल्य बढ़ाने की बात कहि थी लेकिन डेढ़ गुना खाद पर बढा दिया गया, जिससे किसान की मुश्किलें बढ़ी है। उन्होंने गन्ना भुगतान न होने से सरकार पर जमकर निशाना साधा, उन्होंने कहा गन्ना भुगतान को लेकर किसान देहरादून के चक्कर लगा रहा है, विधानसभा और मंत्रियों का घेराव करना पड़ रहा है, भाजपा की सरकार में किसान पूरी तरह से त्रस्त है

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *