हरिद्वार में गंगा घाटों के रखरखाव के लिए जिला प्रशासन ने बनाई नई योजना

हरिद्वार में गंगा घाटों के रखरखाव के लिए जिला प्रशासन ने बनाई नई योजना

हरिद्वार(अरुण शर्मा)। गंगा घाटों को जिला प्रशासन अब गोद देने की तैयारी कर रहा है।

स्वयं सेवी संस्थाओं को इन गंगा घाटों को तीन साल के लिए दिया जाएगा।

गंगा घाटों को लेने वाली संस्था इसके एवज में कुछ धनराशि जमा कराएगी।

हरिद्वार में इस महाकुंभ में कई घाटों का निर्माण चल रहा है।

महाकुंभ के बाद इन गंगा घाटों के रखरखाव एक बड़ी चुनोती जिला प्रशासन के लिए होती है।

जिसके लिए हरिद्वार प्रशासन ने एक योजना तैयार की है।

इस योजना के तहत कुछ घाटों को संस्थाओं को गोद दिया जाएगा।

योजना गँगा को स्वच्छ और निर्मल बनाने में भी महत्वपूर्ण साबित हो सकती है।

जिलाधिकारी सी रविशंकर के अनुसार घाटों के रखरखाव के लिए कई संस्थाओं से बात चल रही है।

इन संस्थाओं द्वारा घाटों को गोद दिया जाएगा,इसके लिए कई नियम व शर्तें रखी जाएंगी।

जिस संस्था के पास ये जिम्मेदारी होगी तीन साल के लिए उसी के नाम पर घाट का नाम रखा जाएगा।

घाटों की देखरेख के लिए एक कर्मचारी की तैनाती की जाएगी जिसके पास घाट की साफ सफाई की जिम्मेदारी रहेगी।

इसके पास एक वॉकी टॉकी रहेगी जो कहीं कोई गड़बड़ी होने पर वह सीधा कंट्रोल रूम को शिकायत करेगा।

इसके अलावा जिला प्रशासन स्वरोजगार को लेकर बैंकों की ओर से आ रही दिक्कतों का लिए एक हेल्पलाइन जारी करने की तैयारी कर रहा है।

admin