सेनफोर्ड के वार्षिकोत्सव में बच्चों ने मचाया धमाल

सेनफोर्ड के वार्षिकोत्सव में बच्चों ने मचाया धमाल

हरिद्वार(वासुदेव राजपूत)। सेनफोर्ड स्कूल के वार्षिकोत्सव में नन्हें मुन्ने बच्चों का धमाल रहा। ज्वालापुर एवं शिवालिक नगर स्थित ब्रिटेन की शिक्षा पद्धति पर आधारित सेनफोर्ड ने अपना वार्षिकोत्सव उड़ान धूमधाम के साथ टाऊन हाल ऑडिटोरियम में मनाया। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथी शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक व प्रोफेसर दिनेश चंद्र भट्ट ने दीप प्रजवल्लित कर किया। स्कूली बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम से समा बांधा।

खास खबर—देखें विडियो-जिम कार्बेट पार्क में पर्यटकों की जिप्सी पर हाथी का हमला,बमुश्किल बची जान

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि अच्छी शिक्षा से ही बच्चे चरित्रवान बनते हैं। हमें स्कूल कालेजों में शिक्षा के स्तर को बेहतर करने के प्रयास अवश्य करने चाहिए। शिक्षित समाज ही राष्ट्र की प्रगति में अपना सहयोग प्रदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि अध्यापक छात्र छात्राओं के उज्जवल भविष्य बनाने में अपना अमूल्य योगदान देते हैं। स्कूल के सीईओ अभिषेक राठौर ने कहा कि कुरीतियों को छोड़कर भारतवर्ष आगे बढ़ रहा है। इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए हमें कर्णधारों को विशेष योगदान देना चाहिए। उड़ान महोत्सव में बच्चों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां अपनी क्षमताओं के अनुसार दी गयी।

उन्होने कहा कि ऐसे बच्चों के आत्मविश्वास को बढ़ाने में सभी को सहयोग करना चाहिए। अच्छी शिक्षा से ही स्कूली बच्चे चरित्रवान बनते हैं। निदेशक दीप्ति वाष्णेय ने वार्षिकोत्सव में प्रति भाग कर रहे स्कूली बच्चों का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि आयोजनों में प्रतिभाग करने से ही बच्चे तरक्की की और बढ़ते हैं। बेटे व बेटी को समान रूप से शिक्षा के अवसर प्रदान किए जाने चाहिए।

सेनफोर्ड स्कूल आज के परिवेश की शिक्षा पद्धति पर कार्य कर रहा है। वार्षिकोत्सव में स्कूली बच्चों ने देषभक्ति व सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देकर सभी का मन मोह लिया। स्कूली बच्चों द्वारा गणेष वंदना की प्रस्तुति भी दी गयी। बच्चों द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान पर नाटिका भी प्रस्तुत की। स्कूली बच्चों ने सैनिकों की वेशभूषा धारण कर वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

कार्यक्रम में सांस्कृतिक प्रस्तुति देने वाले बच्चों में राघवी, चहक, नवधा, दिविशा , क्रिष्टी, हर्षिका, अदिवका, निताशा, श्रुति, गुरसिमरन, आरिया, जसनूर, मिशिता, प्रियांशी, आर्य, आरूष, अद्रवित, पार्थ, ओम, अंश, हेताश, जेनम, अस्मिता, अर्पिता, आयुष्मान, श्रेया आदि शामिल रहे।

admin