बस में हाईटेंशन तार मामले में बीजेपी विधायक के गुस्से के बाद एक्शन में आए मुख्यमंत्री

बस में हाईटेंशन तार मामले में बीजेपी विधायक के गुस्से के बाद एक्शन में आए मुख्यमंत्री

देहरादून(अरुण शर्मा)। कर्मीयों से भरी बस के हाईटेंशन (high tension) लाइन की चपेट में आने की घटना पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने गंभीरता से लेते हुए जूनियर इंजीनियर को निलंबित करने के आदेश दिये। यही नही सीएम रावत (cm rawat) ने इस घटना को गंभीर बताते हुए इसकी जांच कराने के भी निर्देश दिये। आपको बता दें कि मंगलवार की सुबह श्रमिकों से भरी बस में आग लग गई। हादसे में बीस से अधिक लोग झुलस गए। इनमें आठ की हालत गंभीर बनी हुई जबकि एक युवती की मौत हो गयी थी। घटना से नाराज होकर बीजेपी विधायक सुरेश राठौर ने ऊर्जा निगम पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए सैकड़ों ग्रामीणों ने अदीपुर के समीप धरना दिया।

खास खब—शांतिकुंज ने कराया दंगल

कर्मीयों से भरी बस के हाईटेशंन तार की चपेट में आने की घटना पर मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित जूनियर इंजीनियर को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने घटना की जांच हेतु मुख्य अभियन्ता की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठन करने तथा घायलों के उचित उपचार की व्यवस्था के निर्देश दिए.आपको बता दें कि कलियर के इनायतपुर व आसपास के गांव के लोग रोशनाबाद स्थित सिडकुल की फैक्ट्रियों में काम करते हैं। गांव से ही एक बस सुबह करीब 4:00 बजे 50 श्रमिकों को लेकर रोशनाबाद की ओर जा रही थी। बस इनायतपुर गांव से आगे पहुंची तो वहां हाईटेंशन लाइन का तार सड़क पर टूटा हुआ था। इसकी चपेट में आने से बस में आग लग गई और चारों तरफ चीख-पुकार मच गई।

आनन फानन ग्रामीण भी मौके की तरफ दौड़े ग्रामीणों ने एंबुलेंस को सूचना दी। समय तक एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंची। इस दौरान मची अफरा-तफरी में बीस श्रमिक झुलस गए। पुलिस मौके पर पहुंची और झुलसे गंभीर रूप से झुलसे आठ लोगों को सिविल हॉस्पिटल के साथ ही अन्य अस्पताल में लाया गया। घायलों में एक युवती निशा उम्र 21 साल को मेरठ रेफर कर दिया।

बीजेपी विधायक सुरेश राठौड़ ने आरोप लगाया कि ऊर्जा निगम की लापरवाही की वजह से ही बस में आग लगी। निगम को बार-बार कहने के बावजूद लाइन को दुरुस्त नहीं किया गया। इसी बीच ऊर्जा निगम के अधिकारी और सीओ रुड़की चंदन सिंह बिष्ट मौके पर पहुंचे।

admin